Home Entertainment क्या करें कि इस दीपावली में बढ़े आपका धन

क्या करें कि इस दीपावली में बढ़े आपका धन

97
0

आज छोटी दिवाली है| कल शुभ दीपावली यानी आज से उत्साह, उमंग, रिद्धि-सिद्धि के लिए लोगों में नई खुशियां देखी जा रही हैं| घर, आंगन, शहर सब कुछ रौशन है| जगमग-जगमग दीप जले और दिवाली के दीयों से सजा सिलीगुड़ी शहर… इसी तरह की खुशियों का सौगात देता तृण-तृण वाकई दिवाली का त्यौहार अपने आप में संपूर्ण व धन्य धान्य से परिपूर्ण है| दिवाली के दिन ऐसा क्या करें कि घर में धन दौलत की वृद्धि हो, साथ ही लक्ष्मी की मेहरबानी हमेशा आप पर बनी रहे| सबसे पहले मन में निराशा ना रखें| कुछ लोग महंगाई का रोना रोते हैं| इसे भूल कर, जो भी संभव हो खरीदारी करके अपने उत्साह को बनाए रखें, क्योंकि उम्मीदों का दिया हमेशा जलता रहना चाहिए| अगर महंगाई का रोना रोएंगे, तो यह आपके हाथ में तो है नहीं और ना ही निराशाजनक विचार रखने से महंगाई कम हो जाएगी| दिवाली के दिन इलेक्ट्रॉनिक्स बल्ब के बजाय मिट्टी के दीये जलाएं क्योंकि हानिकारक कीट पतंग सरसों के तेल से जलने वाले दीये में नष्ट हो जाते हैं| मिट्टी के दीये और सरसों के तेल को प्राथमिकता में रखें| घर में रूपए-पैसे, धन-दौलत या कोई भी कीमती सामान हो, तो उसे दक्षिण दिशा में ना रखें, उसके लिए ईशान कोण ही शुभ माना गया है और दिवाली में ईशान कोण में रखा हुआ बहुमूल्य सामान हमेशा ही भरा रहता है| दिवाली में एक दूसरे को मिठाई खिलाएं| किसी का दिल ना दुखाए| ईशान कोण में मिट्टी के दीये रखकर पूजा करें| घर के कमरों के सभी कोनो की सफाई करके वहां दीये जलाकर रखें| बिजली से जलने वाले दीये  यूं तो आकर्षक होते हैं, लेकिन वे स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से अच्छे नहीं होते| अत:  हमेशा सरसों तेल से दीये जलाए रखें| अगर आप रात भर दीये जलाए रखें तो यह स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से काफी उत्तम माना जाता है| घर में अगर कृत्रिम लाइट सजाना चाहते हैं तो नीला, हरा, सफेद रंगो को ही प्राथमिकता दें और आखिर में “संतोष परम सुखम” प्रत्येक व्यक्ति को दिवाली में संतोष के साथ सुख व आनंद की अनुभूति करनी चाहिए, तभी लक्ष्मी आपके घर आती है| लक्ष्मी को प्राप्त करने के लिए अपने घर के दरवाजे व मेन गेट पर तोरण द्वार बनाए| अशोक अथवा केले के वृक्ष से द्वार को सजाएं| ऐसा करने से लक्ष्मी का आगमन होता है| साफ सफाई और संतोष के साथ किया गया कार्य दिवाली की रौनक को बढ़ा देता है और साथ ही मन आंगन के दीये भी जलने लगते हैं|

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here