Home Entertainment “आप दांतो तले अंगुलियां दबा लेंगे”, सिलीगुड़ी में होता है…

“आप दांतो तले अंगुलियां दबा लेंगे”, सिलीगुड़ी में होता है…

2610
0

हमारा देश भी अजीब है|विभिन्न भाषा और संस्कृतियों के लोग इस देश में रहते हैं तो उनकी परंपराएं भी गौर करने लायक होती हैं| लेकिन जब हम कुछ परंपराओं के बारे में सुनते हैं तो हमें काफी आश्चर्य होता है,साथ ही खुशी भी| अब तक आपने समाचार पत्रों में पढ़ा अथवा सुना होगा कि देश के कुछ भागों में सिर्फ महिलाएं पूजा करती हैं और पुरुषों को पूजा में भाग लेने का मौका नहीं दिया जाता,लेकिन अब आपको कहीं और जाने की जरूरत नहीं है| यहां सिलीगुड़ी में ही इस तरह की पूजा आप देख सकते हैं|  सिलीगुड़ी के प्रधान नगर में स्थित महिला सांस्कृतिक गोष्ठी नामक एक क्लब है, जो पिछले 29 सालों से दुर्गा पूजा का आयोजन करता आ रहा है| इस क्लब की विशेषता यह है कि क्लब में एक भी पुरुष सदस्य नहीं हैं| सब की सब महिलाएं हैं| वे पिछले 29 सालों से दुर्गा पूजा का आयोजन धूमधाम से करती आ रही हैं| क्लब की महिला सदस्यों से बातचीत करने के बाद पता चला कि केवल पूजा में ही नहीं बल्कि कुम्हारटोली से मूर्ति लाने, खाता-बही तैयार करने, मूर्ति विसर्जन करने, मूर्ति पूजा पंडाल का कार्य, यानी ए टू जेड पूजा के क्रम में सारे कार्य महिला सदस्य ही करती हैं| क्लब की एक सदस्या ने कहा कि हम नारी शक्ति की पूजा करते हैं इसलिए हमारी पूजा में पुरुषों की भागीदारी नहीं होती| हम पंडाल में मूर्ति लाने से लेकर मूर्ति विसर्जन तक सब काम स्वयं ही करती हैं| दुर्गा पूजा की तैयारी हमलोग पिछले काफी समय से कर रही हैं| प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी हमारी पूजा में लोगों का हमें सहयोग मिल रहा है| महिला सांस्कृतिक गोष्ठी क्लब की महिलाएं जीवन के विविध क्षेत्रों में भी काफी सक्रिय दिख रही हैं| पुरुषों के कंधे से कंधे मिलाकर चलने वाली नारियां प्रधान नगर महिला सांस्कृतिक गोष्ठी की पहचान बन गई हैं| चंपासारी में ही एक अन्य क्लब है जिसका नाम जातीय शक्ति संघ एवं पाठागार है| सिलीगुड़ी के प्रमुख क्लबों में से एक माना जाता है, जातीय शक्ति संघ एवं पाठागार| चंपासारी के इस क्लब में पूजा पंडाल का निर्माण पिछले 3 महीनों से किया जा रहा है| इस बार पूजा का थीम है, गुजरात का सोमनाथ मंदिर| इसके लिए हुगली से कलाकारों को बुलाया गया है, जो दिन रात मेहनत करके पंडाल को कलात्मक रूप देने में जुटे है|

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here