Home India पैसो ने की रिश्तो की अहमियत को कम

पैसो ने की रिश्तो की अहमियत को कम

266
0

कैसे कोई भाई अपने ही खून, अपने ही भाई से पैसो के लिए लड़ लेता है ना? हमारी जिंदगी में पैसो की अहमियत इतनी ज्यादा हो गई है की हम रिश्ते नाते सब भूल चुके है| लेकिन क्या हमने कभी यह सोचा है की जब हम 80 वर्ष के हो जाएँगे और किसी बहुत बड़े अस्पताल में सोने के व्हील चेयर पर पड़े होंगे, साथ में कोई रिश्तेदार नहीं, तो क्या करेंगे हम उन पैसो का? उस वक़्त तो शायद कोई पानी पूछने वाला भी अपना न हो| न जाने क्यों हम पैसो के पीछे भागते हुए यह भूल ही जाते है की इस भाग में हमने सारे अपनों को पीछे छोड़ दिया है| जब दो भाइयो में पैसो को लेकर लड़ाई होती है तो एक के आँखों में गुस्सा होता है तो दुसरे के आँखों में आंसू|

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here