Home Local News दार्जिलिंग विरोध करने पहुचें दिल्ली के जंतर मंतर

दार्जिलिंग विरोध करने पहुचें दिल्ली के जंतर मंतर

33
0

दार्जिलिंग : गोरखालैंड को अलग राज्य घोषित करने की मांग को लेकर रविवार को जंतर मंतर पर एक सौ से अधिक लोगों ने भाग लिया|लोगों ने दार्जीलिंग में हो रहे हिंसा और अशांति की निंदा भी की|गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम)ने अनुरोध किया है की दार्जिलिंग में हो रहे हिंसा में पुलिस के साथ प्रदर्शनकारियों ने झड़प के दौरान तीन समर्थक की हत्या कर दी और कई लोग घायल हो गए| जीजेएम अलग राज्य घोषित करने की मांग को लेकर गोरखालैंड के लिए आन्दोलन में सबसे आगे रहा है|

15 जून को पुलिस परिसर में छापे जाने के बाद दार्जिलिंग में अशांति बढ़ गयी। लोगो ने जमकर प्रदर्शन करके राष्ट्रीय को झंडे लहराते हुए नारे के साथ, पोस्टर धारण “हम चाहते हैं कि गोरखालैंड” उन सभी पर लिखे गए| प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वे पश्चिम बंगाल सरकार की नीतियों से गुस्से में थे।

हाल ही में ममता बनर्जी की निर्णय राज्य में 10 वीं कक्षा तक सभी छात्रों के लिए बंगाली भाषा अनिवार्य विषय के रूप में घोषित करने पर अशांति फैल चुकी है। “स्कूलों में बंगाली भाषा को अनिवार्य नहीं बनाया जा सकता यह अन्यायपूर्ण और अस्वीकार्य है हम पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा किए गए ऐसे फैसले के खिलाफ हैं दार्जिलिंग में हाल ही में हो रहे हिंसक में गोलीबारी की निंदा करने के लिए हम यहां आए हैं|जहाँ सगन मोखटन ने कहा, की प्रदर्शनकारों में से एक निर्दोष मारे गए थे स्थानीय लोगों के अलावा, विभिन्न राजनीतिक समूहों और गैर सरकारी संगठनों से जुड़े समर्थकों ने इस घटना में भाग लेकर प्रदर्शनकारियों ने अनुरोध किया। विरोध सुबह 11 बजे शुरू हुआ और 4 बजे तक चला गया। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि इसी तरह का विरोध अगले सप्ताह आयोजित किया जा सकता है, अगर पश्चिम बंगाल सरकार दार्जिलिंग में अशांति को रोकने के लिए निर्णायक कदम नहीं उठाती है।