Home Lifestyle तम्बाकू से होता है मुंह का कैंसर

तम्बाकू से होता है मुंह का कैंसर

52
0

WHO द्वारा हर साल 31मई के दिन को तम्बाकू निषेध दिवस मनाया जाता है. तंबाकू से होने वाली बीमारियों के प्रति जागरूकता के लिए WHO के द्वारा यह अभियान पिछले कई वर्षों से चलाया जा रहा है. WHO ने तंबाकू और धूम्रपान के अन्य उत्पादों से होने वाली बीमारियों और मौतों की रोकथाम को ध्यान में रखते हुए इस साल की थीम ‘टोबैको ऐंड कार्डियो वास्कुलोर डिजीज यानी तंबाकू और हृदय रोग’ रखा है। तंबाकू से ह्रदय रोग का खतरा बढ़ता है, लेकिन तंबाकू सेवन से मुंह में किस प्रकार का प्रभाव पड़ता है? इस बारे में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं Oral and Maxillofacial Surgeon Dr. Sumit Agarwal.

आइये जानते हैं मुंह के कैंसर से जुड़ी यह ख़ास बातें..

डॉ. सुमित अग्रवाल की अगर माने तो तम्बाकू चाहे किसी भी प्रकार का हो चेहरे और मुंह के कई हिस्सों को यह क्षति पहुंचाता है. तंबाकू निषेध दिवस मानाने के पीछे यही मंशा है की कम से कम 24 घंटो के लिए तो तंबाकू का सेवन करने से अपने आप को रोके. अगर मुंह में किसी भी तरह के छाले या सफ़ेद दाग या दांतों मैं दाग दिखने लगे तो अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें सही वक़्त पर इसका इलाज़ जरुर कराएँ. महिलाओं में भी धुम्रपान का प्रचलन बढ़ता जा रहा है.ऐसे मैं लोगों की संपूर्ण पर्सनालिटी पर इसका असर पड़ता है. तंबाकू सेवन के रोकथाम के लिए जरुरी है की स्वयं को प्रेरित करना और फिर काउंसलिंग भी इसमें काफी हद तक मदद कर सकती है. सही समय पर डॉक्टर से इलाज़ जरुर कराएँ और तंबाकू को ना करिए. सिलीगुड़ी के मारवारी युवा मंच की लोकल शाखा भी कैंसर जागरूकता अभियान से जुड़ी हुई है और इसके रोकथाम के लिए कार्यरत है.

भारत में तंबाकू का सेवन खुलेआम चल रहा है और तंबाकू सेवन में भारत दुसरे स्थान पर है. आंकड़े बताते हैं कि दुनियाभर में हर साल 70 लाख लोग और भारत में हर दिन करीब 2500  लोग तंबाकू व अन्य धूम्रपान उत्पादों के कारण कैंसर व अन्य बीमारियों से दम तोड़ देते हैं।