Home Politics दमदम धमाके के पीछे कहीं कोई बड़ी साजिश तो नहीं ?

दमदम धमाके के पीछे कहीं कोई बड़ी साजिश तो नहीं ?

156
0

कोलकाता के दमदम में गांधी जयंती के अवसर पर एक भीषण धमाका हुआ था, जिसमें एक बच्चे की मौत हो गई थी तथा 9 लोग घायल हो गए थे| धमाके की इस घटना के बाद पक्ष और विपक्ष ने राजनीति करनी शुरू कर दी है| तृणमूल कांग्रेस ने इस घटना के लिए आरएसएस अथवा भाजपा को जिम्मेवार ठहराया है, तो दूसरी ओर भाजपा ने इसके लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेवार माना है| इस तरह आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है| तृणमूल कांग्रेस के नेता जो बयान दे रहे हैं उसके अनुसार उन्हें ही लक्ष्य कर बम विस्फोट किया गया था| यह सही नहीं लगता| दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी ने दमदम धमाका कांड में तृणमूल का हाथ होने की बात बताई है, जो गले से नहीं उतरती| इस धमाके कांड की जांच सीआईडी कर रही है| मालुम हो कि काजीपाड़ा में नौ नंबर रोड स्थित मिठाई की दुकान के सामने स्थित फल की दुकान में सुबह 9:15 बजे यह धमाका हुआ था| धमाका इतना भीषण था कि आसपास की इमारतों में रहने वाले लोग अपने घरों से निकल आये थे| धमाका कैसे हुआ? धमाके के पीछे कौन लोग थे? निशाना किसे बनाया गया था? आदि इस तरह के और भी कई प्रश्न हो सकते हैं? सीआईडी इसकी जांच कर रही है| इस बीच घटना की जांच में जुटी सीआईडी की फोरेंसिक टीम ने घटनास्थल से अमोनियम नाइट्रेट तथा इम्प्रोवाईज्द एक्सप्लोसिव डिवाइस से जुड़े साक्ष्य बरामद किये है| एनआईए के अधिकारियों ने राज्य सीआईडी से जांच में सामने आये तथ्यों को साझा करने को कहा है| ऐसा संकेत मिल रहा है कि यहाँ विस्फोट की कोई बड़ी साजिश रची गई थी| इस बीच धमाके को लेकर पक्ष और विपक्ष द्वारा की जा रही राजनीति अनुचित है तथा इसकी भर्त्सना करनी चाहिए| पिछले कुछ दिनों से बंगाल की राजनीति में भाजपा हमलावर होती जा रही है तो दूसरी और तृणमूल भी अपनी साख बचाने के लिए मैदान में कूद पड़ी है| ऐसे में कभी-कभी ऐसा लगता है कि दो पार्टियों की लड़ाई में कहीं आम जनता पीस ना जाए| दमदम कांड की जितनी निंदा की जाए कम है| मौजूदा हालात में इसके पीछे कारणों को ढूंढना तथा दोषी लोगों को सामने लाना बहुत जरूरी है| सरकार को चाहिए कि घटना की तह में जाकर बंगाल की एकजुटता और आम जनता में शांति और स्थिरता लाने के उपाय करे|

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here