Home Politics तीन तलाक मामला :कोर्ट में सुनवाई, केंद्र सरकार ने रखा...

तीन तलाक मामला :कोर्ट में सुनवाई, केंद्र सरकार ने रखा अपना पक्ष

347
0
triple talaaq cases

तीन तलाक मामले को लेकर इस समय सियासत गर्म है | पर कोर्ट ने अपने तरीके से इस पर विचार किया है |इस  मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा तीन तलाक के अलावा  बहुविवाह और निकाह हलाला की भी समीक्षा होगी । सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार का पक्ष रखा। तीन तलाक केस में एटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने केंद्र सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संवैधानिक पीठ के सामने अपना पक्ष रखा। रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट से निकाह, हलाला और बहुविवाह पर भी सुनवाई का आग्रह किया। कोर्ट ने कहा कि हमारे पास सीमित समय है, अागे इसकी समीक्षा होगी। कोर्ट ने केंद्र से सोमवार को अपना पक्ष रखने को कहा था। अभी तक कोर्ट में दलीलें रखने वाले सभी पक्षों ने एक साथ तीन तलाक बोलने की व्यवस्था को खत्म करने की पैरवी की है। सुप्रीम कोर्ट की पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ तीन तलाक की वैधानिकता पर विचार कर रही है।वहीं पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कई बड़े सवाल उठाए थे। कोर्ट ने कहा था कि तीन तलाक इस्लाम में शादी खत्म करने का सबसे बुरा और अवांछनीय तरीका है, लेकिन कुछ विचारधाराएं उसे सही मानती हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने तीन तलाक का विरोध करते हुए कहा था कि उनकी निजी राय में यह पाप है लेकिन आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड इसे वैध मानता है।  इससे पहले 11 मई को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि वह तीन तलाक की प्रथा का विरोध करती है और महिला समानता व लैंगिग न्‍याय के लिए लड़ना चाहती है। हालांकि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वकील कपिल सिब्‍बल ने कहा कि तीन तलाक का मामला मुस्लिम बोर्ड के अंतर्गत आता है और इसलिए उनकी राय में सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में हस्‍तक्षेप नहीं करना चाहिए। –

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here