Home Politics क्या दीदी के कूचबिहार आने से तृणमूल की उठापटक शांत होगी?

क्या दीदी के कूचबिहार आने से तृणमूल की उठापटक शांत होगी?

90
0

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कूचबिहार आ रही हैं .वे यहां कहने को तो ऑडिटोरियम का उद्घाटन करने आ रही हैं, लेकिन उनके यहां आने का असल मकसद कूचबिहार में पिछले कई महीनों से चल रहे तृणमूल के अंदरूनी गुटों की लड़ाई को शांत करना है . कूच बिहार तृणमूल में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. हर नेता और मंत्री खुद को एक दूसरे से बढ़कर साबित करने में लगा है .इससे पार्टी की छवि खराब हो रही है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्टी को बनाने के लिए जितनी मुसीबतें उठाई हैं, नहीं चाहेंगी कि कुछ लोगों के कारण पार्टी की बदनामी हो और पार्टी जनता से अलग हो जाए. तृणमूल के झगड़े को शांत कराने के लिए पूर्व में भी मुख्यमंत्री ने प्रयास किया था. अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से गुटबाजी को शांत कराने की कोशिश की थी ,लेकिन ऐसा लगता है कि तृणमूल के मंत्री ही इस स्थिति को जन्म दे रहे हैं .जहां इगो का सवाल हो, वहां कुछ ठीक कैसे हो सकता है. मुख्यमंत्री ने इस बात को बारीकी से समझा है और एक कारण है कि वो खुद ही इस मामले को खत्म करना चाहती हैं. कल एक बार फिर कूचबिहार में कुछ जिंदा बम पकड़े गए हैं. इसको लेकर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. पुलिस की स्थिति यहां ज्यादा ठीक नहीं है. ऐसे संवेदनशील मामलों पर पुलिस भी ज्यादा कुछ नहीं कर पाती .लेकिन यह सब समझते हैं कि कूचबिहार को अशांत बनाने की कोशिश कौन कर रहा है. निश्चित रूप से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूरे मामले पर संज्ञान लेंगी और जरूरत पड़ी तो कठोर फैसले भी ले सकती हैं. इशारों इशारों में मुख्यमंत्री ने अपनी मंशा भी व्यक्त कर दी है .कुछ ही महीनों में लोकसभा का चुनाव होने वाला है. मुख्यमंत्री नहीं चाहेगी कि चंद तत्वों के कारण यहां पार्टी हाशिए पर आ जाए. हालांकि लोकसभा चुनाव को देखते हुए मुख्यमंत्री संतुलन बनाने की कोशिश करेंगी. यानी कचरा भी साफ हो जाए और किसी नेता या मंत्री की भावनाओं को ठेस भी न पहुंचे .29 तारीख को मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर पूरे कूचबिहार को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है. साफ सफाई की व्यवस्था जोरों पर है और ऐसा लगता है कि पूरा प्रशासन शहर को साफ सुथरा करने में जुट गया है .राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि जिस तरह कूचबिहार की साफ सफाई हो रही है उसी तरह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी अपनी पार्टी के दोषी तत्वों को साफ कर पार्टी कार्यकर्ताओं में एक नई जान फूंक आएगी. सर्किट हाउस में मुख्यमंत्री के विश्राम करने का एक कारण यह भी है कि वे मामले को संजीदगी से लेंगी और तृणमूल के कचरे को साफ करने की कोशिश करेंगी.

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here