Home Uncategorized खबर समय सुप्रभात अच्छे बुरे इंसान की पहचान कैसे करें

खबर समय सुप्रभात अच्छे बुरे इंसान की पहचान कैसे करें

44
0

आचार्य चाणक्य ने अपनी चाणक्य नीति में अच्छे तथा बुरे लोगों की पहचान करने का सरल तरीका बताया है. प्रत्येक व्यक्ति के कुछ मित्र , कुछ शुभचिंतक ,कुछ दुश्मन भी होते हैं. हम जिस समाज में रहते हैं वहां हमारे आस पास अनेक लोग रहते हैं ,उनमें कौन आपका हित चाहता है ,कौन आपका करीबी है और कौन आपकी भलाई नहीं चाहता है ,यह पता लगाना आसान नहीं होता, क्योंकि ऐसा भी होता है कि कई लोग आपके दोस्त के रूप में दुश्मन भी हो सकते हैं. जिन्हें आप अपना शुभचिंतक मानते आ रहे हैं ,क्या वे आपका वाकई शुभचिंतक हैं? जिसको आप अपना दुश्मन मानते हैं क्या वह वाकई आपका दुश्मन है ? यह पता लगाना मुश्किल काम है. लेकिन आचार्य चाणक्य ने अपनी सूझबूझ और विद्वत्ता से इस कठिन काम को आसान बना दिया है .आचार्य चाणक्य ने जो फार्मूला दिया है वह इस प्रकार हैं. आतु रे व्यसने प्राप्त ए दुर्भि क्षेत्र शत्रु संकट ए राज द्वारे श्मशाने च यस तिष्ठति स बांधेवा… इस श्लोक के माध्यम से चाणक्य ने जो हालात बताएं हैं उनमें जो हमारी मदद करता है वही हमारा सच्चा मित्र या अपना है तथा उस का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए .यह हालात अथवा परिस्थितियां कौन-कौन सी हैं ,पहला दुख ,दर्द ,गरीबी में साथ देने वाला शुभचिंतक होता है .दूसरा दुश्मन के वार से बचाने वाला अथवा जब दुश्मन व्यवधान उत्पन्न करें तब वह इंसान आपकी मदद के लिए आगे आता है वही आपका अपना है .तीन राजकीय कार्यों में, शासकीय अधिकारियों की वजह से हो रही आपकी परेशानी में मदद करने वाला व्यक्ति ही आपका शुभचिंतक है .चार घर परिवार में किसी की मृत्यु हो जाए तो आपका दुख बांटने वाला आपका शुभचिंतक है .जो लोग आपके सामने चिकनी चुपड़ी बातें करते हैं और पीठ पीछे आपकी शिकायत करते हैं ,आप को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं, ऐसे लोगों से हमेशा दूर ही रहे क्योंकि मित्र के रूप में आप का दुश्मन हैं और अंतिम वाक्य उनका यह है कि जो लोग हमेशा आपके सामने चिकनी चुपड़ी बात करते हैं , वे आपके मित्र कभी नहीं हो सकते.

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here