Home Uncategorized बेटी जनने पर तलाक, डर से आत्महत्या

बेटी जनने पर तलाक, डर से आत्महत्या

244
0

जलपाईगुड़ी , 20 फ़रवरी।  दहेज़ की मार एवं बेटी पैदा करने से तलाक दिए जाने के भय से मोहर (शादी से पूर्व किये जाने वाले धार्मिक रीति रिवाज ) के बाद एक युवती ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के बाद राजगंज के घोषपाड़ा में भारी तनाव देखा जा रहा है। मृतक की शिनाख्त जारीना खातून (21 ) के रूप में की गयी है। 13 फ़रवरी को मालबाजार ब्लॉक के कांटदिघी कुमोरपाड़ा निवासी अजित हुसैन के साथ राजगंज की जारीना खातून का मोहर हुआ था। मंगलवार सुबह जारीना खातून का उसके कमरे में फंदे से लटकता शव बरामद किया गया। जारीना के चाचा जिन्नत अली ने बताया कि मोहर के समय अजित हुसैन को 30, 000 रूपये दहेज़ में दिए गए थे पर वह और दहेज़ की मांग करने लगा।  जारीना खातून के परिवारवाले शादी के दिन और दहेज़ देने पर सहमत हो गए। बताया जाता है कि चार दिन पहले जारीना खातून की दीदी ने एक बच्ची को जन्म दिया। इसके बाद से लड़के वाले फ़ोन पर अजित की दीदी  कल रात जारीना को फोन कर बताया शादी के बाद यदि उसने बेटी को जन्म दिया तो उसकी बेटी को सरकारी आश्रम में भेज दिया जायेगा। इतना ही नहीं ऐसा होने पर उसे तलाक दे दिया जायेगा। इसके बाद से ज़रीना परेशान रहने लगी।  आज सुबह इसके कमरे से उकसे फंदे से लटकता शव बरामद किया गया। राजगंज थाने के ओसी तमाल दास ने बताया कि पुलिस मामले की जाँच शुरू कर दी है।  शव को पोस्टमार्टम के लिए जलपाईगुड़ी सदर अस्पताल भेज दिया गया है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here