Home Uncategorized भारत में जीएसटी बिल पास ,तय किये गए “गुड्स” पर लगने वाले...

भारत में जीएसटी बिल पास ,तय किये गए “गुड्स” पर लगने वाले टैक्स

133
0
gst bill pass in india

आखिरकार जीएसटी से जुड़ी सबसे बड़ी घोषणा हो ही गई। श्रीनगर में चल रही जीएसटी काउंसिल की बैठक में गुरुवार को आइटम्स के टैक्स रेट तय कर दिए गए। काउंसिल ने 1205 आइटम्स की लिस्ट देर रात 11 बजे जारी कर दी।  इस लिस्ट के मुताबिक 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद अनाज सस्ते हो जाएंगे। काउंसिल ने इन पर टैक्स नहीं लगाने का फैसला किया है | फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली  की अगुआई में गुरुवार को हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में टैक्स रेट को अंतिम रूप दिया गया। मंत्री ने कहा कि अभी 299 चीजों को एक्साइज और 99 को राज्यों के वैट से छूट मिली हुई है |काउंसिल ने गुरुवार को जीएसटी के 7 नियमों को अंतिम रूप दे दिया। ये नियम रजिस्ट्रेशन, रिफंड, कंपोजिशन, इनवॉयस, पेमेंट, इनपुट टैक्स क्रेडिट और वैल्यूएशन से संबंधित हैं।जीएसटी  का मतलब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स है। इसको केंद्र और राज्‍यों के 17 से ज्‍यादा इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के बदले में लागू किया जाएगा। यह देशभर में किसी भी गुड्स या सर्विसेज की मैन्‍युफैक्‍चरिंग, बिक्री और इस्‍तेमाल पर लागू होगा।इससे एक्‍साइज ड्यूटी, सेंट्रल सेल्स टैक्स (सीएसटी), स्टेट के सेल्स टैक्स यानी वैट, एंट्री टैक्स, लॉटरी टैक्स, स्टैंप ड्यूटी, टेलिकॉम लाइसेंस फीस, टर्नओवर टैक्स, बिजली के इस्तेमाल या बिक्री और गुड्स के ट्रांसपोर्टेशन पर लगने वाले टैक्स खत्म हो जाएंगे।सरल शब्‍दों में कहें ताे जीएसटी पूरे देश के लिए इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है | जीएसटी लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे। अभी एक ही चीज के लिए दो राज्यों में अलग-अलग कीमत चुकानी पड़ती हैं।काउंसिल ने रेट तय कर दिए हैं। इस काउंसिल में सभी राज्यों के फाइनेंस मिनिस्टर्स शामिल थे। इन्होंने राज्यों के फाइनेंस सेक्रेटरीज की कमेटी की तरफ से फाइनल किए गए स्लैब और रेट्स पर विचार किया। चूंकि काउंसिल में मिनिस्टर्स शामिल हैं, इसलिए स्टेट लेवल पर इस पर कोई ऑब्जेक्शंस नहीं आएंगे। संसद से जीएसटी बिल विधानसभाओं में स्टेट जीएसटी बिल पास करा रहे हैं।जीएसटी 1जुलाई से देशभर में लागू हो जाएगा।