February 3, 2023
Sevoke Road, Siliguri
Uncategorized

सिलीगुड़ी में मोहन बागान और ईस्ट बंगाल का हुआ अवतरण!

पश्चिम बंगाल फुटबॉल के लिए जाना जाता है. यहां विश्व प्रसिद्ध मोहन बागान और ईस्ट बंगाल क्लब हैं, जो कोलकाता में स्थित हैं. इन क्लबों की लोकप्रियता देश और दुनिया में फैली हुई है. अब सिलीगुड़ी में भी मोहन बागान और ईस्ट बंगाल का अवतरण हो चुका है!

सिलीगुड़ी नगर निगम द्वारा जारी एक अधिसूचना में जानकारी दी गई है कि सिलीगुड़ी के तीन प्रमुख मार्गो अथवा स्थानों के नाम बदले गए हैं. यह तीन प्रमुख मार्ग अथवा स्थान के नाम हैं मोहन बागान लेन, ईस्ट बंगाल लेन और इस्कॉन मोड. आपको बताते चलें कि मार्गो अथवा स्थानों के नाम बदलने के लिए सिलीगुड़ी नगर निगम को संबंधित इकाइयों के द्वारा प्रस्ताव भेजा गया था.सिलीगुड़ी नगर निगम की नाम परिवर्तन संबंधित देखरेख करने वाली एडवाइजरी कमिटी ने प्रस्तावों पर विचार करके अपना निर्णय दिया है.

मोहन बागान एथलेटिक क्लब के महासचिव के द्वारा भेजे गए प्रस्ताव में कहा गया है कि बाघाजतिन पार्क का नाम बदलकर मोहन बागान रखा जाए, क्योंकि बाघाजतिन पार्क में मोहन बागान के अधिकतर समर्थक निवास करते हैं.

सिलीगुड़ी नगर निगम की एडवाइजरी कमिटी ने सिलीगुड़ी के एयरवयू मोड़ से लेकर महानंदा ब्रिज होते हुए सूर्य सेन पार्क मेन गेट तक का नाम मोहन बागान लेन रखा है.इसी तरह से ईस्ट बंगाल एथलेटिक क्लब के महासचिव ने सिलीगुड़ी नगर निगम को कंचनजंघा स्टेडियम गेट नंबर 1 से हरेन मुखर्जी रोड, विकास घोष स्विमिंग पूल तक का नाम ईस्ट बंगाल सरणी रखने का प्रस्ताव भेजा था. जिस पर निगम ने विचार करके उसे ईस्ट बंगाल सरणी नाम दिया है.

सिलीगुड़ी का सबसे चर्चित इस्कॉन मंदिर धार्मिक आस्था का केंद्र है. इस्कॉन के कम्युनिकेशन अधिकारी ने सिलीगुड़ी नगर निगम को पायल मोड का नाम इस्कॉन मोड रखने का प्रस्ताव भेजा था. निगम की एडवाइजरी कमिटी ने इस पर विचार करके पायल मोड का नाम इस्कॉन मोड रख दिया है.पायल मोड सेवक रोड पर स्थित है. अब पायल मोड को इस्कॉन मोड के नाम से जाना जाएगा.

सिलीगुड़ी नगर निगम ने अपने सभी पार्षदों तथा सिलीगुड़ी के नागरिकों से अपेक्षा की है कि निगम के द्वारा रखे गए सिलीगुड़ी के विभिन्न मार्गों अथवा स्थानों के संबंध में किसी भी तरह की आपत्ति, शिकायत अगर हो तो विज्ञप्ति प्रकाशन के 7 दिनों के अंदर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएं.

सिलीगुड़ी नगर निगम ने इससे पहले भी सिलीगुड़ी के कई चर्चित स्थानों और मोड के नाम बदले हैं. हालांकि नए नाम की चर्चा बहुत कम होती है. क्योंकि सिलीगुड़ी के लोगों को इससे मतलब नहीं है कि जगह का नाम बदला गया है. लोग तो स्थानों को पुराने नाम से ही जानते हैं. हां, सरकारी और कानूनी मामलों में नए नाम का प्रयोग करना आवश्यक होगा.

अब देखना होगा कि सिलीगुड़ी नगर निगम की तय समय सीमा के भीतर निगम द्वारा निणिर्त नामो पर किसी को आपत्ति होती है या नहीं. यह भी देखना होगा कि सिलीगुड़ी नगर निगम में विपक्ष की भूमिका निभाने वाली भारतीय जनता पार्टी के पार्षद इसे किस रूप में लेते हैं!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *