April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल लाइफस्टाइल सिलीगुड़ी

कहीं आपके आधार कार्ड निष्क्रिय तो नहीं हो गए हैं?

लालू प्रसाद के घर पर डाकघर के द्वारा एक चिट्ठी मिली थी. जब लालू प्रसाद ने चिट्ठी खोलकर देखा तो उसमें भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण का भेजा एक कागज संलग्न था. लालू प्रसाद ने कागज पढ़ा. इसमें कहा गया था कि आपका और आपके परिवार का आधार कार्ड रद्द निष्क्रिय किया जा रहा है. क्योंकि आपके पास उचित दस्तावेज नहीं है.

लालू प्रसाद की समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण आधार सेवा विभाग उनका आधार कार्ड निष्क्रिय क्यों कर रहा है. जबकि उनके पास राशन कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड इत्यादि सभी कागजात उपलब्ध हैं. लालू प्रसाद के पड़ोसी भी हैरान है. इन दिनों पूरे बंगाल में कई लोगों के आधार कार्ड निष्क्रिय करने की खबरे सुर्खियों में है.

मालदा, मुर्शिदाबाद, बीरभूम, बारासात इत्यादि जगह से समाचार पत्रों अथवा सोशल मीडिया के जरिए लोगों तक यह बात पहुंचाई जा रही है कि केंद्र के इशारे पर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण बंगाल में कुछ लोगों का आधार कार्ड रद्द कर रहा है. इसी तरह की एक घटना मालदा जिले के अंतर्गत हबीबपुर ब्लॉक के गांव बक्शी नगर खोटापाड़ा की है, जहां एक ही परिवार के तीन सदस्यों का आधार कार्ड निष्क्रिय किए जाने के संबंध में भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण रांची के क्षेत्रीय कार्यालय से पत्र भेजा गया है.

इस पत्र में कहा गया है कि आपके पास उचित दस्तावेज नहीं है. इसलिए आपके आधार कार्ड को निष्क्रिय कर दिया गया है. इस समय पूरे बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के द्वारा इस मुद्दे को जोर-जोर से उठाया जा रहा है कि केंद्र सरकार राज्य में CAA कानून लागू करना चाहती है. इसलिए एक वर्ग के लोगों के आधार कार्ड निष्क्रिय किए जा रहे हैं. हालांकि इस घटना में कितनी सच्चाई है, यह तो पता नहीं लेकिन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस मुद्दे पर केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है.

पश्चिम बंगाल में आधार कार्ड निष्क्रिय किए जाने संबंधी चल रही चर्चाओं के बीच कुछ दिनों पहले भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के द्वारा सोशल मीडिया और न्यूज़ चैनल के जरिए स्पष्टीकरण दिया गया था कि बंगाल में किसी भी व्यक्ति का आधार कार्ड निष्क्रिय नहीं किया गया है. लेकिन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य में चल रही इस चर्चा और लोगों में व्याप्त घबराहट और दहशत को देखते हुए कहा था कि राज्य के लोगों को चिंता करने की जरूरत नहीं है. सरकार एक नया पोर्टल ला रही है. इस पोर्टल पर वे लोग जिनके आधार कार्ड निष्क्रिय किए जा रहे हैं, आवेदन करके राज्य में चल रही सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे.

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने इसे तृणमूल कांग्रेस के द्वारा संदेशखाली से ध्यान हटाने के लिए शुरू की गई रणनीति का एक हिस्सा बताते हुए कहा है कि तृणमूल कांग्रेस के द्वारा महज अफवाह उड़ाई जा रही है. इसमें कुछ भी सच्चाई नहीं है. क्योंकि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि किसी भी व्यक्ति का आधार कार्ड निष्क्रिय नहीं किया गया है.

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि आधार कार्ड को निष्क्रिय करना बीजेपी का एक राजनीतिक हथकंडा है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दावा किया कि बड़ी संख्या में मतुआ समुदाय के लोगों के आधार कार्ड निष्क्रिय कर दिए गए हैं. उन्होंने इसे वोट बैंक के खेल से जोड़कर बताया है. बहरहाल खबर समय के पास अभी तक इस बात का कोई सबूत नहीं है कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के द्वारा बंगाल के कुछ लोगों के आधार कार्ड निष्क्रिय किए गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status