July 13, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल लाइफस्टाइल सिलीगुड़ी

‘डाक विभाग से मैसेज आया है- आपका पता सही नहीं है, पार्सल चाहिए तो लिंक पर क्लिक कर पता अपडेट कराएं!’

क्या आपके मोबाइल पर इस तरह का मैसेज आया है? अगर नहीं आया है तो आ सकता है. सिलीगुड़ी के कुछ लोगों ने शिकायत की है कि उनके मोबाइल पर पोस्टल डिपार्टमेंट से मैसेज आया है. मैसेज में आमतौर पर लिखा होता है कि आपके घर का पता गलत है. इसलिए पार्सल की डिलीवरी करना संभव नहीं है. अगर पार्सल चाहते हैं तो सही लोकेशन की जानकारी दें. दिए गए लिंक पर क्लिक कर अपना पता अपडेट कराएं अन्यथा आपका पार्सल लौटा दिया जाएगा…

जरा दिमाग पर जोर डालिए. क्या इस तरह का मैसेज पोस्ट ऑफिस के द्वारा आपके मोबाइल पर भेजा जा सकता है? कुछ लोग यह सोच रहे होंगे कि भारतीय डाक विभाग ने पत्र अथवा पार्सल की डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए इस तरह का कदम उठाया होगा तो हम आपको बता दें कि भारतीय डाक विभाग के द्वारा ऐसे किसी भी तरह के कदम उठाए जाने की सूचना नहीं है. भारतीय डाक विभाग इस तरह का मैसेज भी नहीं दे सकता. अगर पता गलत होगा तो डिलीवरी मैन आपके मोबाइल पर फोन करके आपका लोकेशन जान सकता है. परंतु किसी भी हाल में इस तरह का मैसेज भारतीय डाक विभाग के द्वारा ग्राहक को दिए जाने का कोई प्रावधान नहीं है.

सिलीगुड़ी के जिन लोगों के मोबाइल पर कुछ इस तरह के मैसेज आए हैं, वे सभी कारोबारी अथवा शिक्षा विभाग से जुड़े व्यक्ति हैं. हाल में साइबर हमले की बढ़ती घटनाओं के बीच लोग पहले से अधिक सतर्क हो गए हैं. गनीमत रही कि जिन लोगों के पास ऐसे मैसेज आए, उन्होंने बुद्धि से काम लिया और स्थिति को समझ कर मैसेज की अनदेखी कर दी. लेकिन यह भी सच है कि सभी बुद्धिमान नहीं होते. कुछ लोग जल्दबाजी में कदम उठा लेते हैं और बुरी तरह फंस जाते हैं.

साइबर हमलावरों ने लोगों को लूटने का अब एक नया तरीका ढूंढ निकाला है. अब तक तो आपने यही सुना था कि कोरियर कंपनी, केवाईसी अपडेट, बिजली बिल के बकाए का भुगतान आदि के नाम पर या फिर खुद को पुलिस ऑफिसर बात कर साइबर अपराधी अपना उल्लू सीधा करते थे. पर लोगों में आयी जागरूकता के बाद उनका यह हथियार भी फेल हो चुका है. अब उन्होंने लोगों को लूटने का एक नायाब तरीका ढूंढ निकाला है. कोलकाता में ऐसी घटनाएं बहुत हो रही हैं. सिलीगुड़ी में भी एकाध घटनाएं सामने आई है. साइबर अपराधियों ने लोगों को अपना शिकार बनाने के लिए भारतीय डाकघर के नाम का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है. लोगों के मोबाइल फोन में बिना किसी नंबर के पोस्टल विभाग के नाम का इस्तेमाल कर मैसेज भेजे जा रहे हैं. अतः आप सावधान हो जाएं.

सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस और साइबर विभाग के अधिकारियों ने भी सिलीगुड़ी के लोगों को जागरूक करना शुरू कर दिया है. जल्द ही प्रचार माध्यमों के जरिए लोगों को सतर्क भी किया जाएगा. अगर आपके मोबाइल पर इस तरह का कोई मैसेज आता है तो सर्वप्रथम इसकी सूचना पुलिस को दें. कोलकाता पुलिस ने बाकायदा इसके खिलाफ अभियान चला रखा है. सिलीगुड़ी में भी बहुत जल्दी यह देखने को मिलेगा. मजे की बात तो यह है कि साइबर अपराधी भारतीय डाकघर के नाम से जो एसएमएस भेज रहे हैं, उसमें उनका कोई नंबर नहीं होता है. केवल भारतीय डाकघर का नाम लिखा होता है. समझ लें कि यह फर्जी है और आपको लूटने का यह तरीका है.

सूत्रों ने बताया कि इस तरह का मैसेज और लिंक भेजना वास्तव में साइबर ठगों द्वारा आपके फोन को हैक करने का एक नायाब तरीका है. अगर कोई व्यक्ति भूल से भी दिए गए लिंक पर क्लिक करता है तो समझ लें कि उनके बैंक अकाउंट से मोटी रकम निकल गयी. खबर समय के द्वारा जनहित में कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं. अगर आपके मोबाइल पर कुछ इस तरह के मैसेज आए तो सावधान हो जाएं और इसका कोई जवाब ना दें. अपनी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखें. अपने नजदीकी थाने में पुलिस अधिकारियों से बात करें और मैसेज के बारे में बताएं.अगर पोस्ट ऑफिस से इस तरह का मैसेज आता है तो सीधे पोस्ट ऑफिस में जाकर इसकी सच्चाई जान लें. लेकिन भूल कर भी मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक न करें. मैसेज को बाद में डिलीट कर दें. इस तरह से सतर्क होकर आप अपने बचत खाता और धन की सुरक्षा कर सकते हैं.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *