July 13, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल राजनीति लोकसभा चुनाव

बंगाल में मोदी या दीदी? आखिरी चरण का चुनाव हिंसा और हंगामा के बीच संपन्न!

पश्चिम बंगाल में आज आखिरी चरण का चुनाव 9 लोक सभा सीटों पर संपन्न हो गया. इन लोकसभा सीटों पर कुल 124 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. आज जिन सीटों पर मतदान हुआ उनमें दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, डायमंड हार्बर, जादवपुर,कोलकाता दक्षिण और कोलकाता उत्तर शामिल है. इन सभी सीटों पर 2019 में टीएमसी ने जीत दर्ज की थी. आज मतदाताओं ने इस चरण के प्रमुख उम्मीदवारों में अभिषेक बनर्जी, सौगत राय, हाजी नुरुल इस्लाम, सैयोनी घोष, देवश्री चौधरी, तापस राय और रेखा पात्रा की किस्मत का फैसला इवीएम में सुरक्षित कर दिया.

पश्चिम बंगाल में आखिरी चरण के चुनाव में कई लोकसभा क्षेत्रों में हिंसक घटनाएं होने का समाचार है. कई मतदान केन्द्रो पर मतदाताओं द्वारा मतदान करने से रोकने का आरोप लगा है तो कुछ मतदान केन्द्र में ईवीएम मशीन को तालाब में फेंकने का भी समाचार प्राप्त हुआ है. इससे पहले के 6 चरण के चुनाव छिटपुट हिंसक घटनाओं के बीच संपन्न हुए थे. लेकिन आखिरी चरण का चुनाव हिंसा और हंगामा के बीच संपन्न हुआ है.

दक्षिण 24 परगना जिले के जयनगर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत एक पोलिंग बूथ पर मतदान करने आए ग्रामीणों को मतदान करने से रोका गया. आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा है. विरोध में स्थानीय लोगों ने ईवीएम और बीवीपेट मशीन को तालाब में फेंक दिया. पुलिस की गाड़ी के आगे पेड़ो की शाखाएं फेंककर ग्रामीणों के द्वारा विरोध प्रदर्शन भी किया गया है. भांगर में कई मतदान केन्द्र पर तृणमूल कांग्रेस और आईएसएफ समर्थकों के बीच हिंसक घटनाओं की सूचना मिल रही है. कई जगहों पर बमबाजी की भी खबर है.ISF प्रत्याशी नूर आलम खान की कार में तोड़फोड़ भी की गई है.

स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज किया. पुलिस ने मौके से कुछ बम कारतूस भी बरामद किए हैं. दोनों राजनीतिक दल के कई समर्थक जख्मी हुए हैं. दोपहर 3:00 बजे तक की वोटिंग में सभी लोकसभा क्षेत्रों में सबसे ज्यादा मतदान बशीरहाट में हुआ है. बसीरहाट में लगभग 67% मतदान हो चुका था.जबकि कोलकाता में इस समय तक केवल 50% मतदान हुए थे.

बसीरहाट लोकसभा क्षेत्र के हिंगल गज के भवानीपुर स्थित बूथ संख्या 65 में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप टीएमसी पर लगा है. इस हमले में चार भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए.उनमें से तीन को काली नगर ग्रामीण अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इसी लोकसभा क्षेत्र में आज एक अजीब सा नजारा देखा गया. एक मतदाता भाजपा नेता कासिम अली के पैर पकड़ कर रोने बिलखने लगा. वह भाजपा नेता से बार-बार गुहार लगा रहा था. मुझे बचाइए वह लोग मुझे मार डालेंगे…

आखिरी चरण के चुनाव में कहीं फर्जी मतदान को लेकर बवाल हुआ. तो कहीं मतदान में बाधा देने को लेकर भी हंगामा होता रहा. कई जगह उम्मीदवारों को भी विरोध का सामना करना पड़ा. भाजपा नेता और फिल्म स्टार मिथुन चक्रवर्ती जब मतदान करने आए तो आरोप है कि टीएमसी समर्थक उन्हें चोर चोर कहकर विरोध करने लगे. हालांकि मिथुन चक्रवर्ती ने संकेत दिया है कि वह राजनीति से संन्यास लेने जा रहे हैं.

मिली जानकारी के अनुसार एक मतदान केंद्र के बाहर तृणमूल पार्षद और वामपंथी कार्यकर्ताओं के बीच धक्का मुक्की भी देखी गई. कोलकाता उत्तर लोकसभा सीट के कुछ इलाकों में तनाव की स्थिति देखी गई. काशीपुर इलाके में तृणमूल समर्थकों पर मतदाताओं को प्रभावित करने का आरोप लगा. हालांकि टीएमसी ने इस बात से इनकार किया है. बेलियाघाटा इलाके में भाजपा उम्मीदवार के सामने गो बैक के नारे लगाए गए. मथुरापुर में भाजपा उम्मीदवार अशोक पुरकायत को लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा. जबकि संदेश खाली इलाके में मतदान शुरू होने के साथ ही तनाव की स्थिति देखने को मिली.

यहां एक मतदान केंद्र के बाहर पंचायत सदस्य मनिका मंडल के पति का सिर फोड़ देने का आरोप भाजपा कार्यकर्ताओं पर लगा है. इस घटना को लेकर भी जमकर हंगामा हुआ. एक मतदान केंद्र में माकपा बूथ एजेंट की हत्या करने की धमकी देने का भी आरोप टीएमसी पर लगा है. डायमंड हार्बर लोकसभा क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार अभिजीत दास को घेर कर प्रदर्शन किया किया. इस तरह से पश्चिम बंगाल के आखिरी चरण के चुनाव में हिंसा और उत्तेजना देखी गई है. मत पत्रों की गिनती 4 तारीख की सुबह शुरू हो जाएगी और दोपहर तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी कि केंद्र में किसकी सरकार बन रही है.

इस चुनाव परिणाम से कई चीजे स्पष्ट हो जाएगी. अगर ममता बनर्जी की सीट बढ़ती है तो नरेंद्र मोदी का जादू फीका पड़ सकता है. ममता बनर्जी का विपक्षी गठबंधन में प्रभाव बढ़ेगा. दोनों ही पार्टियों टीएमसी और भाजपा बंगाल फतह करने का दावा कर रही है. इसकी परीक्षा 4 जून को ही हो जाएगी.दोनों ही पार्टियों ने अधिक से अधिक सीटों पर जीत के लिए अपने सारे तरकश के तीर छोड़ रखे थे. पर तीर किसका निशाने पर लगा, यह तो चार तारीख को ही पता चलेगा.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *