July 13, 2024
Sevoke Road, Siliguri
जुर्म

सिक्किम: स्कूली लड़कियों से छेड़छाड़ का आरोपी शिक्षक गिरफ्तार!

सिक्किम में पिछले कुछ दिनों से आपराधिक घटनाओं में वृद्धि हुई है.खासकर यहां यौन अपराध की घटनाएं बढ़ गई है. पिछले हफ्ते भी सिक्किम में एक पिता की हैवानियत का नंगा सच सामने आया था. सिक्किम में कई सामाजिक संस्थाएं हैं, जो वहां के नौजवानों और आम जनता को आपराधिक घटनाओं के प्रति जागरूक करने में लगी हैं. इसी का परिणाम है कि अब समाज के विभिन्न तबकों के लोग अपराध और असामाजिक तत्वों के खिलाफ सामने आ रहे हैं. अपराधिक तत्वों के विरुद्ध सिक्किम का जनमानस धीरे-धीरे खड़ा हो रहा है.

सिक्किम के सोरेंग से एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना सामने आ रही है. ऐसी चर्चा है कि एक शिक्षक ने 12 छात्राओं के साथ अश्लील छेड़छाड़ और गलत तरीके से शारीरिक संपर्क करने की कोशिश की. शिक्षक के यौन उत्पीड़न और अश्लील छेड़छाड़ की शिकायत करने वाली सभी छात्राओं की उम्र 8 साल से 14 साल तक है. वहां की सामाजिक संस्थाओं द्वारा जन जागरूकता का ही प्रयास है कि अब भुक्त भोगी महिलाएं सामने आ रही हैं और बिना किसी संकोच अथवा दबाव के पुलिस स्टेशन में जाकर प्राथमिकी दर्ज करा रही हैं.

पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पोक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत आरोपी शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज किया और शिक्षक को भी गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि आरोपी शिक्षक शिक्षण संस्थान में भाषा संबंधी इंस्ट्रक्टर था. 3 महीने पहले ही शिक्षण संस्थान में उसे नियमित किया गया था. अपराध कोई भी हो, उसे समाज के बीच लाने और लोगों को जागरूक करने में मीडिया की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है.

मीडिया में खबर सामने आने के बाद लोगों के तीखे सवाल भी सामने आ रहे हैं. विद्यालय या शिक्षण संस्थान किसी पूजा घर के समान ही है. शिक्षक को गुरु माना गया है और छात्र को शिष्य. यह भी कहा जाता है कि गुरु शिष्यों में विद्या, बुद्धि और संस्कार का निर्माण करता है. इस तरह से गुरु अपने शिष्य का भविष्य निर्माण करता है. लेकिन कभी-कभी कलयुग में कुछ गुरु, गुरु और शिष्य की परंपरा को कलंकित करने का प्रयास करते हैं तो गुरु पर सवाल उठने लगते हैं. एक गुरु के कारण पूरे शिक्षण संस्थान की मर्यादा धूल धूसरित होने लगती है. ऐसे गुरुओं को ना तो शिक्षण संस्थान में और ना ही समाज में उचित स्थान मिलना चाहिए. उनका स्थान तो जेल में होना चाहिए.

ऐसी खबरों को प्रकाशित और प्रसारित करने का हमारा उद्देश्य समाज को जागरूक करना होता है. ताकि लोग सचेत रहें. समाज में अवांछित तत्वों की कोई जगह नहीं होनी चाहिए. सिक्किम के लोग अपने कर्तव्य और अधिकार के प्रति जागरूक हो रहे हैं. सिक्किम के युवा युवतियों के द्वारा समाज में एक सकारात्मक संदेश दिया जा रहा है. अगर जुल्म होता है तो जुल्म का प्रतिरोध करो और अत्याचारी को जेल भेजो.

पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. आपको बता दें कि पुलिस में जाने से पहले पीड़ित लड़कियों के द्वारा इस घटना की जानकारी सर्वप्रथम 8 मई को स्कूल प्रशासन को दी गई थी. उसके बाद 10 मई को इस संबंध में थाना में शिकायत दर्ज कराई गई. जिसके आधार पर पुलिस ने छानबीन करते हुए आरोपी शिक्षक को पोस्को की विभिन्न धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज करते हुए गिरफ्तार किया गया . यह मामला पुलिस और अदालत में है. अब देखना है कि पुलिस और कानून पीड़ित लड़कियों को क्या इंसाफ दिलाता है.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *