July 13, 2024
Sevoke Road, Siliguri
अलीपुरद्वार उत्तर बंगाल कूचबिहार जलपाईगुड़ी दार्जिलिंग राजनीति लोकसभा चुनाव सिलीगुड़ी

अबकी बार काम चलाऊ सरकार… क्या चला देश में मोदी का जादू?

उत्तर प्रदेश में अयोध्या में भगवान श्री राम लला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद पूरे देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में यह कयास लगाये जाने लगा था कि इस बार लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में भाजपा प्रचंड जीत हासिल करेगी. एग्जिट पोल में भाजपा को 70 से 75 सीटों पर जीत का अनुमान लगाया गया था. लेकिन आज मतगणना के बाद प्राप्त रुझानों में स्पष्ट हो गया कि जहां भाजपा और एनडीए को प्रचंड जीत का विश्वास था, उसी प्रदेश ने भाजपा को अकेले दम पर बहुमत से भी दूर कर दिया. हालांकि अभी तस्वीर स्पष्ट नहीं हुई है, पर लगता है कि देशभर में एनडीए अधिक से अधिक 300 का आंकड़ा नहीं पार कर पाएगा. जबकि भाजपा 250 से अधिक सीट अकेले दम पर नहीं ला पाएगी.

आज के चुनाव परिणाम में एग्जिट पोल पूरी तरह फेल हो गए हैं. ऐसा लगता है कि एजेंसियां जनता के मूड को भांपने में नाकाम साबित रही हैं. उत्तर प्रदेश में पांच सीटों वाली समाजवादी पार्टी 35 सीटों पर पहुंचती दिख रही है. जबकि कांग्रेस के खाते में एक से बढ़कर 8 सीटें मिलती दिख रही है. कांग्रेस गदगद है. पूरे देश में कांग्रेस की सीटें बढ़कर लगभग 100 तक पहुंच सकती है. इसलिए राहुल गांधी काफी खुश दिख रहे हैं. जाहिर है कि राहुल गांधी को सफलता का श्रेय दिया जाएगा.

भारतीय जनता पार्टी को हिंदी भाषी प्रदेशों में अपेक्षित सफलता नहीं मिली है. लेकिन दक्षिण राज्यों में भाजपा ने उम्मीद से बढ़कर प्रदर्शन किया है. वह चाहे आंध्र प्रदेश हो अथवा तमिलनाडु… केरल में भी भाजपा का खाता खुलता दिख रहा है. पहली बार भाजपा लगभग 25 वर्षों से सत्ता में कायम बीजू जनता दल की नवीन पटनायक सरकार को उखाड़ फेंकती दिख रही है. लोकसभा और विधानसभा दोनों क्षेत्रों में भाजपा ने अच्छी सफलता हासिल की है. लेकिन राजस्थान, पंजाब, हरियाणा आदि राज्यों में भाजपा ने निराशाजनक प्रदर्शन किया है.

इस चुनाव परिणाम ने भाजपा को कई सबक भी दिए हैं. ओवरकॉन्फिडेंस हमेशा ही डुबोता है. उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खुद पर इतना भरोसा था कि उन्हें लगा कि अयोध्या में राम मंदिर की स्थापना के बाद उत्तर प्रदेश में राम गंगा बह रही है. परंतु योगी यह भूल गए कि जनता के लिए धर्म, आस्था अलग विषय है. परंतु रोटी, कपड़ा और मकान तो इसकी बुनियादी आवश्यकता है. समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने इस मुद्दे को पूरे जोर-शोर से उठाया और जनता ने उस पर मुहर लगाई है.

बिहार के बारे में कहा जा रहा था कि जनता दल यूनाइटेड के एनडीए में शामिल होने से लोकसभा चुनाव में भाजपा और एनडीए को काफी नुकसान होगा. लेकिन अब तक के चुनाव रुझान और रिजल्ट से पता चलता है कि नीतीश कुमार की जेडीयू ने शानदार प्रदर्शन किया है. वही चिराग पासवान की पार्टी ने भी सभी सीटों पर अच्छा प्रदर्शन किया है. भाजपा को बिहार में नुकसान होता दिख रहा है. लेकिन छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात आदि राज्यों में भाजपा ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया है. यहां पार्टी को उम्मीद से बढ़कर लाभ मिला है.

इस चुनाव परिणाम से एक बात तो तय है कि केंद्र में एनडीए की सरकार बनेगी. लेकिन यह सरकार मिली जुली सरकार होगी और सरकार के मुखिया होंगे नरेंद्र मोदी. खंडित जनादेश वाली सरकार में अकेले दम पर नरेंद्र मोदी वह नहीं कर सकते जो अब तक 10 वर्षों में करते आ रहे हैं. यह कहना कोई गलत नहीं होगा कि नरेंद्र मोदी पहले से काफी कमजोर हुए हैं और एक कमजोर सरकार के ही वह मुखिया होंगे. हालांकि अगली सरकार के बारे में स्थिति कल ही स्पष्ट होगी. क्योंकि इस बीच यह भी खबर आ रही है कि विपक्षी गठबंधन की ओर से नीतीश कुमार को उप प्रधानमंत्री बनने का ऑफर दिया जा रहा है. नीतीश कुमार के पिछले रिकार्ड को देखते हुए इस पर कुछ कहना ठीक नहीं होगा कि नीतीश कुमार NDA में रहेंगे या फिर इंडिया गठबंधन में जा सकते हैं. अ

अगर नीतीश कुमार ने फिर से पलटी मारी तो केंद्र में एनडीए की सरकार भी नहीं बन पाएगी. ऐसे में इंडिया गठबंधन की अगली सरकार बन सकती है. हालांकि जदयू की ओर से के सी त्यागी ने स्पष्ट कर दिया है कि जदयू एनडीए का हिस्सा है और आगे भी एनडीए का हिस्सा रहेगा.

अभी मतगणना चल रही है. धीरे-धीरे चुनाव परिणाम भी आने शुरू हो जाएंगे. आज रात या कल सुबह तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी कि किस पार्टी को कितनी सीटें मिल रही है. भाजपा की स्थिति भी कल ही साफ होगी. यही कारण है कि विपक्षी गठबंधन और सत्तारूढ़ गठबंधन दोनों ने ही बुधवार को अपने-अपने दलों की बैठक बुलाई है. इस बैठक में ताजा स्थिति पर विचार किया जाएगा.लेकिन उससे पहले सरकार बनाने के लिए जादुई आंकड़ा जुटाने में इंडिया गठबंधन काफी आगे दिख रहा है और जदयू को तोड़ने की कोशिश में जुट गया है.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *