February 3, 2023
Sevoke Road, Siliguri
Uncategorized

आधार कार्ड का सतर्कता पूर्वक इस्तेमाल आपको नुकसान होने से बचाएगा!

इन दिनों आधार कार्ड का दुरुपयोग बढ़ गया है. कुछ लोग किसी अन्य के आधार कार्ड का अपना उल्लू सीधा करने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके चलते कई तरह की फ्रॉड, ठगी, घटनाएं घटित हो रही है. हाल ही में सिलीगुड़ी में एक रिटायर्ड रेलकर्मी के बैंक खाते से उसके आधार का दुरुपयोग करते हुए रुपए निकाल लिए गए. इन सभी घटनाओं को देखते हुए यूआईडीएआई ने सभी आधार होल्डर को आधार कार्ड का विवेक पूर्ण तरीके से इस्तेमाल करने की सलाह दी है.

अगर आधार कार्ड का बैंक खाते, पैन अथवा पासपोर्ट समेत किसी अन्य पहचान दस्तावेज के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं तो इसकी सुरक्षा का ध्यान रखें. यूआईडीएआई ने एक एडवाइजरी जारी कर कहा है कि आधार एक निवासी की डिजिटल आईडी देशभर में ऑनलाइन और ऑफलाइन पहचान सत्यापन के एकल स्रोत के रूप में काम करता है. आधार को किसी भी विश्वसनीय संस्था के साथ साझा करते समय उसी स्तर की सावधानी बरती जानी चाहिए, जिस तरह एक मोबाइल नंबर ,बैंक खाता संख्या, अथवा पासपोर्ट, वोटर आईडी, राशन कार्ड आदि जैसे किसी अन्य पहचान दस्तावेज को साझा करते समय किया जाता है.

आधार की सुरक्षा तथा उसके दुरुपयोग को रोकने के लिए यूआईडीएआई ने वर्चुअल पहचान यानी वीआईडी की सुविधा भी प्रदान की है.इसे आप दो तरह से जनरेट कर सकते हैं. माय आधार पोर्टल के माध्यम से यह सबसे सरल काम है. इसे बदला भी जा सकता है.इसके अलावा आधार की सुरक्षा के लिए यूआईडीएआई ने लॉकिंग और अनलॉकिंग की सुविधा भी दी है. इसके अंतर्गत आप बायोमेट्रिक लॉक कर सकते हैं, जब तक आप ना चाहे कोई इसका इस्तेमाल नहीं कर सकता है.

अगर आप लंबे समय तक आधार कार्ड का उपयोग नहीं कर रहे हैं ,तो इसे बायोमेट्रिक लॉक करके सुरक्षित रख सकते हैं. आधार एक निवासी को अपनी वेबसाइट अथवा एम आधार एप पर पिछले 6 महीनों के लिए अपने प्रमाणीकरण इतिहास पर नजर रखने में मदद करता है. यूआईडीएआई के अनुसार ओटीपी आधारित आधार प्रमाणीकरण के साथ विभिन्न सेवाओं का लाभ उठाने के लिए आधार के साथ अपने मोबाइल नंबर को अपडेट कर देना बेहतर कदम होगा.

इसके अलावा यूआईडीएआई के निर्देशों में आधार कार्ड को सार्वजनिक रूप से साझा ना करने की सलाह दी गई है. जैसे आप सोशल मीडिया पर आधार कार्ड को साझा ना करें. इसके अलावा अन्य सार्वजनिक प्लेटफार्म पर इसके सार्वजनिक उपयोग से बचें. आधार धारकों को चाहिए कि किसी भी अनाधिकृत संस्था को आधार ओटीपी का खुलासा ना करें और ना ही किसी के भी साथ एम आधार पिन साझा करें. अगर आप उपरोक्त बातों का ध्यान रखते हैं तो कोई भी आपके आधार का दुरुपयोग नहीं कर सकता है और आप पूरी तरह सुरक्षित हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *