April 21, 2024
Sevoke Road, Siliguri
Uncategorized

₹1000 के नोट फिर से बाजार में आएंगे?

इन दिनों सोशल मीडिया में यह खबर खूब चलाई जा रही है कि जल्द ही सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा ₹2000 के नोट बंद करने के बाद ₹1000 के नोट फिर से बाजार में लाए जा रहे हैं. यह खबर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के बयान के बाद तेजी से वायरल हो रही है. कांग्रेसी नेता पी चिदंबरम ने अपने एक बयान में कहा है कि 2000 मूल्य के नोट बंद करने के बाद सरकार एक बार फिर से ₹1000 का नोट जारी करेगी.

आम जनता में भी तमाम तरह के कौतूहल, जिज्ञासा और उत्कंठा देखी जा रही है. क्योंकि लोगों को भी लगता है कि जब सरकार ₹2000 के नोट बंद कर रही है तो फिर बड़े मूल्य के नोट की श्रृंखला तो जारी करेगी ही और ₹1000 के नोट से कम मूल्य के नोट बड़े नोट नहीं हो सकते हैं. सिलीगुड़ी में विभिन्न समुदाय, वर्ग और पेशे के लोगों से खबर समय की बातचीत में यह स्पष्ट हो गया कि ₹2000 के नोट बैंक में बदलने का कोई झंझट या टेंशन नहीं है. क्योंकि पहले से ही ₹2000 के नोट बाजार से गायब रहे हैं. जिनके पास कुछ गुलाबी नोट रह भी गए हैं तो बैंक उसे हाथों-हाथ लेने के लिए तैयार हैं. सिलीगुड़ी के बैंक उसे बदल भी रहे हैं. इसलिए ₹2000 के नोट जमा करने में किसी को कोई परेशानी नहीं हो रही है.

अब लोगों की जिज्ञासा और उत्कंठा इस बात को लेकर है कि क्या ₹2000 के नोट प्रचलन से बाहर करने के बाद सरकार ₹1000 के नोट फिर से जारी करेंगी? सिलीगुड़ी के अधिकांश लोगों को लगता है कि यह संभव है कि सरकार एक बार फिर से ₹1000 के नोट जारी कर सकती है. पी चिदंबरम के बयान और दावे की यह खबर आज की सुर्खियां बन चुकी है. क्या सचमुच सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक ₹1000 के नए नोट बाजार में लाने जा रहे है?

लोगों की जिज्ञासा और कयासों का अंत करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्ति कांत दास आगे आए हैं. उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा है कि बाजार में 1000 के नोट नहीं आएंगे. भारतीय रिजर्व बैंक लोगों को अफवाहों से दूर रहने की हिदायत देता है. आपको बताते चलें कि 2016 में 1000 और ₹500 के पुराने नोट बंद कर दिए गए थे. उसके बाद बाजार में ₹2000 के गुलाबी नोट देखे गए थे, जो धीरे-धीरे गायब होते गए. 2019 में 2000 के नोटों की छपाई भी बंद हो गई!

अब ₹2000 के नोट चलन से बाहर करने के बाद एक तरफ कांग्रेस और विपक्षी दलों ने सरकार की बखिया उधेड़नी शुरू कर दी है और दावा किया है कि ₹2000 के नोट बंद करने से भारतीय अर्थव्यवस्था पर इसका बुरा असर होगा. इसके जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि ₹2000 के नोट बंद करने से भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोई भी असर नहीं होगा.अंततः यह स्पष्ट हो चुका है कि बाजार में ₹1000 के नए नोट नहीं आ रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status