April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल दार्जिलिंग राजनीति सिलीगुड़ी

चामलिंग घिरे बागियों से, गोपाल लामा विरोधियों के निशाने पर!

दार्जिलिंग और सिक्किम में चुनाव से पूर्व और क्या-क्या वहां के लोगों को देखने को मिल सकता है,सबकी नजर इसी बात पर टिकी है.राजनीतिक दलों में भगदड़ मची है. टिकट पाने के लिए नेता राजनीतिक दलों के शीर्ष नेताओं के संपर्क में है और जैसे ही उन्हें इशारा कर दिया जाता है,वह बागी हो जाते हैं और पार्टी को टा टा कर देते हैं. यूं तो यह स्थिति पूरे देश में है. लेकिन सिक्किम और दार्जिलिंग की राजनीति की यहां चर्चा करना जरूरी है.

सिक्किम में लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा का भी चुनाव हो रहा है. 16 अथवा 17 तारीख को चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की घोषणा कर सकता है. सिक्किम में एक साथ लोकसभा और विधानसभा का चुनाव हो रहा है. सिक्किम में विधानसभा की 32 सीटें हैं. जबकि लोकसभा की एकमात्र सीट है. राज्य में पवन चामलिंग की एसडीएफ के अलावा मौजूदा मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग की पार्टी सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा और राष्ट्रीय पार्टी भाजपा के बीच मुकाबला होना है. सिक्किम में विकास प्रमुख मुद्दा है. हाल ही में केंद्र सरकार ने पूरे देश में CAA लागू किया है.लेकिन सिक्किम में यह लागू नहीं है.

मौजूदा वक्त में एसडीएफ पार्टी से नेता नाता तोड़कर भाजपा में शामिल हो रहे हैं. कुछ नेता मौन है और स्थिति पर नजर जमाए हुए हैं. पूर्व मंत्री जी सी राई और उगेन निडूप भूटिया भाजपा में शामिल हो चुके हैं. पासंग शेरपा भी भाजपा में शामिल हो गए हैं. और भी कई नेता भाजपा का दामन थामने वाले हैं. भाजपा दावा कर रही है कि इस बार सिक्किम में भाजपा विधानसभा का चुनाव जीतकर सरकार बनाएगी. भाजपा सिक्किम के प्रभारी डॉक्टर दिलीप जायसवाल ने यह दावा किया है. हालांकि सूत्र यह भी बता रहे हैं कि विधानसभा चुनाव में भाजपा और सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के बीच गठबंधन भी हो सकता है. क्योंकि सूत्र बता रहे हैं कि राज्य में एसडीएफ एक मजबूत स्थिति में है. एसडीएफ ने अब तक पांच उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है.

सिक्किम में एसडीएफ की जडें काफी मजबूत है. पवन चामलिंग ने एक लंबे समय तक सिक्किम पर शासन किया है. पवन चामलिंग का दावा है कि उनकी पार्टी ही राज्य में सरकार बनाएगी. उन्हें इस बात की जरा भी चिंता नहीं है कि उनकी पार्टी के कई नेता छिटक कर इधर-उधर जा रहे हैं. एसडीएफ के नेता राज्य में यह अफवाह फैला रहे हैं कि भाजपा ने सिक्किम में नागरिकता संशोधन अधिनियम लागू कर दिया है. एसडीएफ राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग भी कर रही है. सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा इसे एसडीएफ का बकवास बता रही है.

राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि सिक्किम में पवन चामलिंग को कम करके नहीं आंकना चाहिए. खुद भाजपा और सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के नेता भी इस बात को अच्छी तरह समझते हैं. इसलिए संभावना है कि भाजपा और सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा जल्द ही एक नई रणनीति पर विचार कर सकते हैं. यह गठबंधन की भी रणनीति हो सकती है. जहां तक दार्जिलिंग की बात है, तो वर्तमान में जिस तैयारी के साथ गोपाल लामा मैदान में उतरे थे, अब उनके एक बयान ने विपक्षी दलों के नेताओं को उन्हें निशाने पर ला खड़ा किया है. गोपाल लामा ने बागडोगरा में कहा था कि अगर हम विकास करते रहे तो गोरखा का मुद्दा अपने आप खत्म हो जाएगा. उनके इस बयान पर हमरो पार्टी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है. हमरो पार्टी की ओर से अजय एडवर्ड्स ने कहा है कि उनकी पार्टी का जन्म गोरखा जाति के उत्थान के लिए हुआ है. इसलिए ऐसे बयान देने वाले नेताओं के बयान को पहाड़ के लोग माफ नहीं कर सकेंगे.

अजय एडवर्ड और कई अन्य क्षेत्रीय पार्टी के नेता गोपाल लामा के खिलाफ पहाड़ की जनता को भड़का रहे हैं. उधर भाजपा और कांग्रेस ने अभी तक दार्जिलिंग सीट के लिए अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है. पर समझा जाता है कि एक-दो दिनों में ही भाजपा अपने प्रत्याशी की घोषणा कर देगी. फिलहाल पहाड़ में भाजपा के लिए सब कुछ ठीक है, कहा जा सकता है. क्योंकि खुद बीजेपी अथवा सहयोगी दल गोरखा राष्ट्रीय मुक्ति मोर्चा के नेता भाजपा के पक्ष में सकारात्मक वातावरण का निर्माण कर रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 9 फरवरी को सिलीगुड़ी के मैदान में दिए गए भाषण की समीक्षा एवं चर्चा के बाद पहाड़ में गोरखा के लिए इसे एक सकारात्मक संदेश बताया जा रहा है.

आज अनित थापा ने गोपाल लामा के बयान का बचाव करते हुए कहा है कि हम जीटीए के अंतर्गत गांव का विकास करेंगे. गोरखालैंड से ज्यादा जरूरी है पहाड़ का विकास. लेकिन जो गोरखालैंड अथवा अलग राज्य की मांग कर रहे हैं, उनका क्या होगा. विमल गुरुंग ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं. इस समय पहाड़ में भूचाल आने से पहले की शांति है. अब देखना है कि पहाड़ की राजनीति में कोई तूफान खड़ा होता है या नहीं.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status