April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल जुर्म सिलीगुड़ी

सिलीगुड़ी में श्री राम उत्सव के दिन नाबालिगा से दुष्कर्म!

एक तरफ जहां पूरा देश और सिलीगुड़ी शहर अयोध्या में भगवान राम लला की प्राण प्रतिष्ठा के उत्सव में डूबा था, ठीक उसी वक्त सिलीगुड़ी के एक नंबर वार्ड में एक पड़ोसी एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म की कोशिश कर रहा था. अब उसके पापों की सजा मिल चुकी है और वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है.

खबर समय पहले भी आपको आगाह करता रहा है. अपने आसपास के लोगों से सतर्क रहें. खासकर जब आपके घर में बहू बेटियां हो. आमतौर पर देखा जाता है कि पड़ोसी किसी के भी घर में बिना इजाजत लिए घुस जाते हैं. यह आदत अच्छी नहीं होती है. बेहतर है कि आप अपने घर के दरवाजे हमेशा बंद रखें और जब घर में बड़े बुजुर्ग ना हो तो दरवाजे पर आए व्यक्ति को लौटा दे अन्यथा दुर्घटना होते देर नहीं लगती.

सिलीगुड़ी में भी कुछ इसी तरह की घटना उस समय घटी है, जब पूरा शहर श्री राममय हो चुका था. अपने घरों से निकल कर लोग जगह-जगह श्री राम के जयकारे और शोभा यात्रा का आनंद उठा रहे थे. लेकिन दिलीप दास के दिमाग में तो कुछ और ही चल रहा था. उसकी नजर पड़ोसी के घर पर थी. जहां घर में एक नाबालिग लड़की 14 वर्षीया मालती (बदला हुआ नाम) के अलावा कोई नहीं था. मालती के घरवाले श्री राम की शोभायात्रा में शामिल होने गए थे या फिर भंडारा खाने गए थे.

दिलीप दास भी घर में अकेला था. हालांकि उसके दोस्त और अन्य लोग शोभायात्रा में गए थे. जाना तो दिलीप दास को भी था. लेकिन उसका पाप उसके पैरों में बेड़ियां बन चुका था. जब उसने देखा कि उसके पड़ोसी अपने-अपने घर से निकल चुके हैं और आसपास में कोई नहीं दिखा तो वह चुपके से मालती के घर के सामने खड़ा हो गया. उसने मालती को दरवाजा खोलने के लिए कहा. मालती ने सोचा कि पड़ोसी अंकल है. कुछ काम होगा. यह सोचकर उसने दरवाजा खोल दिया. यह मालती के लिए भूल साबित हुई.

घर में अकेली एक लड़की को देखते ही 32 वर्षीय दिलीप दास की हवस की आग प्रज्वलित हो उठी. वह मालती से बहकी बहकी बातें करने लगा. मालती इतनी नादान भी नहीं थी. वह समझ गई. उसने दिलीप दास को घर से बाहर चले जाने को कहा. लेकिन दिलीप दास के मन में तो कुछ और ही चल रहा था. वह योजना बनाकर आया था. जब दिलीप दास वहां से जाने की बजाय जोर जबरदस्ती पर उतरने लगा, तब मालती ने शोर मचाना शुरू कर दिया. इत्तेफाक से उसी समय मालती की बड़ी बहन घर आ गई. इसके बाद दूसरे पड़ोसी भी वहां जुट गए. तब तक दिलीप दास वहां से फरार होने में कामयाब हो गया था.

इस मामले की जानकारी प्रधान नगर थाना को दी गई तो वहां से पुलिस बल शीघ्र ही मौके पर पहुंच गया. पुलिस ने छेड़खानी की कोशिश करने वाले दिलीप दास को गिरफ्तार कर लिया. थाने में ले जाकर दिलीप दास से पुलिस ने पूछताछ की और अगले दिन उसे सिलीगुड़ी कोर्ट में प्रस्तुत किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है. प्रधान नगर थाना की पुलिस ने दिलीप दास के खिलाफ पॉस्को एक्ट के तहत मामला पंजीकृत किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status