April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल लाइफस्टाइल सिलीगुड़ी

सिलीगुड़ी के भक्ति नगर थाना क्षेत्र की सनसनीखेज घटना: कच्ची उम्र का प्यार, घर ना देखे द्वार!

कहते हैं कि किशोरावस्था एक ऐसी उम्र होती है, जहां विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण बढ़ता है. इसी को लड़के- लड़कियां प्यार का नाम देते हैं. वास्तव में यह कच्ची उम्र का आकर्षण होता है, जिसे प्यार का नाम दिया जाता है. किशोरावस्था में एक तरफ लड़कियां सतरंगी सपने देखने लगती हैं तो दूसरी तरफ कई लड़के लड़कियों के सपनों में रंग भरने लगते हैं. एक विचार, एक ही सोच और एक ही सपनों के कारण विपरीत लिंगी कब एक दूसरे के हो जाते हैं, कुछ पता ही नहीं चलता… कुछ इसी तरह की घटना सिलीगुड़ी के भक्ति नगर थाना क्षेत्र में सुर्खियों में है.

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के अंतर्गत सकरा थाना क्षेत्र में एक गांव है जिसका नाम दरधा है. इसी गांव का रहने वाला था रवि कुमार, जो सिलीगुड़ी के भक्ति नगर थाना क्षेत्र में स्थित एक होटल में नौकरी करता था. वह वहीं आसपास में एक किराए के मकान में रहता था. जहां वह रहता था, वहीं मिनी (कल्पित नाम) का घर भी था. इसलिए घर से आते जाते रवि से मिनी की मुलाकात हो जाती थी. मिनी 17 साल की थी. वह हंसमुख लड़की थी. रवि भी हंसमुख था. दोनों आपस में बातें करते थे.रवि की बातचीत का अंदाज मिनी को अच्छा लगता था. जब मिनी या रवि फुर्सत में होते थे तो आपस में ढेर सारी बातें किया करते थे.

इस उम्र में जैसा कि होता है, सामान्य बातचीत से शुरू हुई यह कहानी प्यार, मोहब्बत और सपनों तक पहुंच गई. मिनी को पता ही नहीं चला कि कब वह रवि से दिल लगा बैठी है. एक दिन बातों ही बातों में रवि ने अपने दिल की बात बता दी, तो मिनी को लगा कि रवि ने उसके दिल की आवाज चुरा ली है. उस दिन दोनों ने देर तक आपस में बहकी बहकी बातें की. इन बातों में सपने, मिलन, प्यार और जज्बात थे. इस घटना के बाद रवि और मिनी की मुलाकातें बढ़ती गई. दोनों ने आपस में शादी करने का फैसला कर लिया.

लेकिन समस्या यह थी कि मिनी के घर वाले रवि से उसकी शादी नहीं कर सकते थे. क्योंकि रवि और मिनी का आपस में कोई मेल भी नहीं था. दूसरे में रवि मिनी की जाति का भी नहीं था. यह बात रवि भी जानता था. इसलिए दोनों ने घर से भागकर शादी रचाने का फैसला कर लिया. सिलीगुड़ी में दुर्गा पूजा की तैयारी चल रही थी. चारों तरफ उल्लास था. योजना बनाकर मिनी अपने घर से यह कह कर निकली कि वह शॉपिंग के लिए रवि के साथ जा रही है. 1 घंटे में लौट आएगी.

लेकिन रात हो गई. मिनी घर नहीं लौटी. इससे घर वालों को चिंता होने लगी. उन्होंने आसपास और अपने रिश्तेदारों के यहां फोन करके पता किया तो मिनी वहां भी नहीं थी. रवि भी अपने कमरे में नहीं था. उसके कमरे का ताला बंद था. इससे घर वाले और ज्यादा परेशान हो गए. किसी तरह से रात गुजारी. अगली सुबह घर वालों ने भक्ति नगर थाना क्षेत्र में मिनी के लापता होने की सारी बात बतायी. पुलिस अधिकारी के निर्देश पर मिनी के घर वालों ने मिनी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी.

आरंभिक पूछताछ में पुलिस ने यह पता लगा लिया कि मिनी और रवि एक दूसरे से प्यार करते थे. दोनों ही अपने घर से लापता थे. इसलिए पुलिस को लगा कि मिनी रवि के साथ होगी. इसके बाद भक्ति नगर पुलिस ने रवि कुमार के मूल निवास का पता लगाया. इसके साथ ही उसके मोबाइल फोन को भी डिवाइस पर लगा दिया. ताकि उसके लोकेशन की जानकारी मिल सके. कुछ ही समय पहले पता चला कि रवि बिहार में अपने घर में है. मुखबिर से सूचना मिलने के बाद भक्ति नगर पुलिस ने सकरा थाना क्षेत्र से संपर्क किया और बिहार पहुंच गई. सिलीगुड़ी और बिहार पुलिस की एक संयुक्त टीम बनाई गई.

सिलीगुड़ी पुलिस और सकरा पुलिस की संयुक्त टीम रवि कुमार के दरधा गांव में दबिश देकर रवि और मिनी को बरामद करने में सफल रही. दोनों प्रेमी जोड़े अब तक शादी कर चुके थे और साथ रह रहे थे. लेकिन उन्हें क्या पता कि पुलिस उनके पीछे पड़ चुकी है. हकबकाए दोनों जोड़ों ने अपनी गिरफ्तारी का विरोध किया. लेकिन पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी और आवश्यक लिखा पढ़ी करके मिनी और रवि को सिलीगुड़ी लेकर आई है. अब देखना होगा कि मिनी के घर वाले क्या रवि को अपना दामाद स्वीकार करते हैं या नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status