July 13, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल लाइफस्टाइल सिलीगुड़ी

भांति भांति के आमों से पटा सिलीगुड़ी बाजार !

सिलीगुड़ी के बाजारों में खट्टे मीठे, रंग-बिरंगे विभिन्न आकार व वैरायटी के आम मिल जाएंगे. पीले आम, हरे आम, स्वाद भी भरपूर. हाल के दिनों में आम की भरमार देखी जा रही है. अगर आप आम खाने के शौकीन हैं तो एक बार मालदा के लंगड़ा आम का स्वाद ले सकते हैं. बच्चों ही नहीं, बड़े बुजुर्गों को भी मालदा का लंगड़ा आम शुरू से ही पसंदीदा आम रहा है. फलों का राजा कहे जाने वाले आम में कई प्रकार के विटामिन और पोषक तत्व होते हैं. जिनकी हमारे शरीर को नियमित रूप से जरूरत होती है. आम विटामिन सी का अच्छा स्रोत है .साथ ही फाइबर से भी भरपूर होता है, जो इम्यूनिटी को बढ़ाने के साथ-साथ पाचन को भी ठीक रखने में मदद करता है.

आम के स्वाद और गुणवत्ता का लाभ उठाने के लिए यह जरूरी है कि आम खाने से पहले उसे अच्छी तरह से धो लें. क्योंकि बाजार में बिकने वाला हर आम रसायन से युक्त होता है. आम को पकाने में रसायन का उपयोग होता है. आमतौर पर कैल्शियम कार्बाइड का आम पकाने में इस्तेमाल होता है. कैल्शियम कार्बाइड मुंह में जाने से त्वचा की गंभीर समस्याओं के साथ-साथ किडनी फेलियर तक का खतरा हो जाता है. इसलिए आम खाने से पहले उसे कम से कम 2 घंटे तक पानी में भिगोकर रखें और अच्छी तरह से धोकर ही खाएं.

आहार विशेषज्ञों के अनुसार अधिक मात्रा में आम नहीं खाना चाहिए. क्योंकि आम में उच्च फाइबर सामग्री होती है. अत्यधिक फाइबर का सेवन करने से पेट में सूजन, गैस, पेट में ऐंठन और दस्त के मामले बढ़ जाते हैं. अगर आप आम का सेवन करते हैं तो तीन चार से ज्यादा आम नहीं खाएं.

वर्तमान में सिलीगुड़ी में भारी परिमाण में आमों का आयात किया जा रहा है. प्रदेश के अन्य शहरों तथा राज्यों से ट्रक के ट्रक आम सिलीगुड़ी आ रहे हैं. मालदा से भी भारी परिमाण में सिलीगुड़ी के रेगुलेटेड मार्केट में ट्रकों से आम लाकर आम की अनलोडिंग कराई जा रही है. पूरे देश में मालदा के आम काफी विख्यात हैं. यह स्वाद और गुणवत्ता में अन्य आम के मुकाबले काफी बेहतर हैं. मालदा के आमों में फाजली, हिमसागर, लक्ष्मण भोग, लंगड़ा और आम्रपाली का तो जवाब ही नहीं है.

सिलीगुड़ी के लगभग सभी भागों में मालदा के आम मिल जाएंगे. वर्तमान में बाजार में लंगड़ा की कीमत प्रति किलो 70 से 75 रुपए है. दशहरी भी बाजार में उपलब्ध है. इसी तरह से फाजली, हिमसागर, लक्ष्मण भोग और आम्रपाली भी महंग बिक रहा है. बाजार में आम की आवक इतनी ज्यादा है कि ठेले वाले, फेरी वाले चिल्ला चिल्ला कर गली कूचों में बेच रहे हैं. लोग आम खरीद भी रहे हैं. हालांकि कई लोग इस उम्मीद में बैठे हैं कि आम का भाव गिरेगा. परंतु सूत्र बता रहे हैं कि आम की कीमत में और इजाफा होगा.

पश्चिम बंगाल निर्यातक समन्वय समिति के महासचिव उज्जवल साहा ने बताया कि इस साल आम की खेती बेमौसम बारिश और तेज गर्मी के कारण कम हुई है. इसका उत्पादन पर भारी असर पड़ा है.कम उत्पादन होने और भारी मांग के चलते बाजार में आम की कीमत बढ़ गई है. कुछ लोग बताते हैं कि जिस तरह से सिलीगुड़ी में आम की आवक बढी है, इसे देखते हुए आम का भाव गिरेगा. हालांकि यह कोरी कल्पना है. क्योंकि आम का भाव नहीं गिरने वाला है.

दरअसल आम की जो इतनी बड़ी आवक देख रहे हैं, वह इसलिए है कि आम का निर्यात नहीं हो पा रहा है. मालदा जिले से हर साल आम के सीजन में आमों का भारी मात्रा में निर्यात होता था. लेकिन इस बार विदेशी खरीदारों ने कम कीमत लगाई थी, जिसके कारण किसानों ने निर्यात में दिलचस्पी नहीं दिखायी. राहत की बात यह है कि किसानों को घरेलू बाजार में अच्छा दाम मिलने लगा है. मालदा के आमों का सबसे बड़ा खरीदार ब्रिटेन और यूएई है. आरंभ में तो सब ठीक-ठाक था. बाद में कीमतों पर सहमति नहीं बनने के चलते किसानों ने निर्यात के कॉन्ट्रैक्ट रद्द कर दिए.

दूसरी ओर किसानों को भारतीय घरेलू बाजार से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. पिछले दिनों दिल्ली में आयोजित एक प्रदर्शनी में लगभग 17 टन मालदा के आम ₹100 से लेकर 150 रुपए प्रति किलो की दर से बेचे गए थे.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *