July 18, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल लाइफस्टाइल सिलीगुड़ी

फल-फूल रहे हैं सिलीगुड़ी के होटल,पब एवं सिंगिंग बार!

जनवरी का महीना चल रहा है. नए साल का सेलिब्रेशन करने के नाम पर सिलीगुड़ी के अधिकतर होटल, पब,बार, सिंगिंग बार, डांसिंग बारों में रंगीनियों का दौर जारी है. अश्लीलता परोसते कई होटल और पब वाले भरपूर कमाई कर रहे हैं. यहां के कई छोटे बड़े होटलों में मस्ती करने के लिए बिहार और अन्य राज्यों से भी लोग पहुंच रहे हैं.

सिलीगुड़ी के आसपास अनेक पिकनिक स्पॉट है. इसके अलावा पहाड़ और डुआर्स में भी घूमने के लिए जंगल सफारी और बहुत कुछ है. सिलीगुड़ी में बंगाल सफारी हमेशा से ही पर्यटकों को आकर्षित करता रहा है. नए साल का जश्न मनाने के लिए आने वाले लोग सबसे पहले सिलीगुड़ी में ही होटल बुक कराते हैं. फिर यहां से वे कहीं और घूमने के लिए जाते हैं. बिहार में शराबबंदी के बाद सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों के लिए सिलीगुड़ी उनका पसंदीदा स्थान बन गया है. यहां होटलों में मौज मस्ती के साथ-साथ घूमने फिरने का भी आनंद उठाया जा सकता है.

इन दिनों सिलीगुड़ी के विभिन्न क्षेत्रों में फैले पब और सिंगिंग बार में रौनक इन बाहरी आसामियों के कारण है, जो देर-देर रात तक सिंगिंग बारों और पब में खूब मस्ती करते हैं. होटल में भी उनकी मस्ती का पूरा इंतजाम रहता है. यूं तो फिलहाल सेवक रोड, हिलकार्ट रोड, सिटी सेंटर इत्यादि क्षेत्रों में मन बहलाव के साधन विकसित है, जिनके बारे में पुलिस भी जानती है. परंतु इसके अलावा भी शहर में गुप्त रूप से अनेक पब, बार और रेस्टोरेंट चलाए जा रहे हैं, जिनके अंदर चल रही गतिविधियों के बारे में पुलिस को भी पता नहीं होता.

जब पुलिस को सूचना मिलती है, तब पुलिस ऐसे होटलों और डांसिंग बारों पर रेड डालती है. गिरफ्तारियां भी होती है. युवक युवतियां पकड़े जाते हैं. उनके खिलाफ अनैतिक देह व्यापार का मामला भी दर्ज होता है. परंतु ऐसे मामलों में अदालत से तुरंत ही बेल मिल जाती है. प्रधान नगर पुलिस ने विगत दिनों एक होटल में देह व्यापार चलाने के आरोप में होटल के कुछ कर्मचारी समेत बिहार के कुछ आसामियों को भी गिरफ्तार किया था. कोर्ट ने उन सभी आसामियों को जमानत पर रिहा कर दिया है. अधिकतर ग्राहक बिहार से सिलीगुड़ी रात रंगीन करने आए थे.

ऐसे में अनैतिक अपराधों पर लगाम कैसे लगेगी. होटल, बार और सिंगिंग बार वाले भी जानते हैं कि पकड़े जाने के बावजूद भी उन्हें ज्यादा समय तक जेल में नहीं रखा जा सकता है. यही कारण है कि सीजन की मांग देखते हुए सिलीगुड़ी के अनेक गुमनाम होटल और बार भी आबाद हो रहे हैं. ऐसे गुमनाम होटलों और बारों का बाहरी ढांचा अंदर चल रही गतिविधियों का एहसास भी नहीं कराता है. कई बार तो यहां रेड डालने के क्रम में पुलिस भी चकमा खा जाती है.

एक सोची समझी और फूल प्रूफ योजना के तहत सिलीगुड़ी के सेवक रोड, माटीगाड़ा के सिटी सेंटर, मल्लागुड़ी,सिलीगुड़ी जंक्शन ,एनजेपी और शहर के तमाम इलाकों में इन दिनों कई गुमनाम छोटे होटल और बार खूब आबाद हो रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि बिहार और बाहर से आने वाले पर्यटकों को इन छोटे-छोटे होटलों में ले जाने का काम कुछ टोटो वाले करते हैं, जिन्हें ग्राहक लाने का अच्छा खासा कमीशन भी उनके द्वारा दिया जाता है.

31 दिसंबर की रात सिटी सेंटर के एक बार में एक युवक ने होटल की तीसरी मंजिल से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली थी. ऐसी जानकारी मिली है कि युवक अपनी गर्लफ्रेंड के साथ यहां जश्न मनाने आया था. युवक की गर्लफ्रेंड ने उसे अनदेखा करके एक अन्य युवक का दामन थाम लिया. इसे वह बर्दाश्त नहीं कर सका और छत से कूदकर अपनी जान दे दी.

इस समय सिलीगुड़ी जंक्शन और हिलकार्ट रोड के कुछ पब और बार भी सुर्खियों में है, जहां मनोरंजन और जश्न के नाम पर अश्लीलता परोसी जा रही है. सिलीगुड़ी जंक्शन रेलवे स्टेशन परिसर में स्थित कमर्शियल कंपलेक्स में चल रहे होटल और बारों में इस समय खूब रंगीनियां देखी जा रही है. स्थानीय लोगों ने इसके खिलाफ सिलीगुड़ी के पुलिस कमिश्नर को इतला भी कर दी है और कार्रवाई की मांग की है.

सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस शहर और आसपास के क्षेत्रो में चल रहे गुमनाम होटलो और बारों पर नजर रखने के लिए अपने मुखबिर को कहा है. इस बीच सिलीगुड़ी आने वाले आसामी पहले की तरह ही आ रहे हैं. सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस बाहरी लोगों पर पर भी नजर रख रही है. जानकार मानते हैं कि इस महीने तक सिलीगुड़ी के छोटे बड़े होटलों और बारो में न्यू ईयर का जश्न चलता रहेगा. लेकिन पिछले रेड के बाद अब बार और होटल वाले भी फूंक फूंक कर कदम रख रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *