April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल राजनीति सिलीगुड़ी

उत्तर बंगाल की 3 सीटों के के लिए कुल 59 उम्मीदवार चुनाव मैदान में!

पश्चिम बंगाल में पहले चरण का चुनाव 19 अप्रैल को है. जलपाईगुड़ी, कूचबिहार और अलीपुरद्वार संसदीय सीटों के लिए 19 अप्रैल को मतदान होगा. विभिन्न राजनीतिक दलों की ओर से इन संसदीय सीटों के लिए नामांकन प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है. चुनाव कार्यालय विभाग में बनाए गए जांच समिति विभाग के अधिकारियों द्वारा उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की भी जांच कर ली गई है. आज तीनों संसदीय सीटों के लिए नामांकन पत्रों की स्वीकृति के बाद कुल 59 उम्मीदवार चुनाव मैदान में रह गए हैं.

सबसे पहले जलपाईगुड़ी की बात करते हैं. इस सीट के लिए कुल 17 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया था. इनमें से एक उम्मीदवार का नामांकन पत्र जांच में अस्वीकृत कर दिया गया है. इस तरह से जलपाईगुड़ी सीट के लिए कुल 16 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. अभी तक किसी भी उम्मीदवार ने नाम वापस नहीं लिया है. प्रमुख उम्मीदवारों में भाजपा के डॉक्टर जयंत कुमार राय, तृणमूल कांग्रेस के निर्मल चंद्र राय और सीपीएम की तरफ से देवराज बर्मन चुनाव मैदान में हैं. इसके अलावा अन्य निर्दलीय उम्मीदवार हैं. यहां त्रिकोणात्मक मुकाबला है. मुख्य मुकाबला तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच है. यहां से मौजूदा सांसद डॉक्टर जयंत कुमार राय भाजपा के टिकट पर दूसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं.

कूचबिहार संसदीय सीट काफी संवेदनशील सीट मानी जाती है. इस सीट के लिए कुल 32 उम्मीदवारों ने अपने नामांकन पत्र दाखिल किये. चुनाव अधिकारी के कार्यालय में बनाए गए जांच समिति विभाग के अधिकारियों द्वारा नामांकन पत्रों की जांच में 27 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र सही पाए गए हैं. जबकि पांच उम्मीदवारों के नामांकन किन्हीं त्रुटियों की वजह से रद्द कर दिए गए. नामांकन पत्रों की जांच के बाद कुल 27 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं.

प्रमुख उम्मीदवारों में भाजपा के निशित प्रमाणिक, जो केंद्रीय मंत्री भी हैं, के अलावा तृणमूल कांग्रेस की ओर से जगदीश चंद्र बर्मन वसुनिया, कांग्रेस की टिकट पर प्रिया राय चौधरी और कामतापुर पीपुल्स पार्टी की ओर से प्रदीप कुमार राय चुनाव मैदान में हैं. अन्य निर्दलीय उम्मीदवार हैं. यहां मुख्य मुकाबला तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच ही है. हालांकि कांग्रेस और कामतापुर पीपुल्स पार्टी भी अपनी ताकत दिखाने में जुट गए हैं. कामतापुर पीपुल्स पार्टी का इस क्षेत्र में अच्छा खासा प्रभाव भी है. अभी तक किसी भी उम्मीदवार ने अपना नाम वापस नहीं लिया है.

अलीपुरद्वार संसदीय सीट भी एक संवेदनशील सीट मानी जाती है. यहां से कुल 16 उम्मीदवारों ने अपने नामांकन दाखिल किए थे. इनमें से सभी उम्मीदवारों के नामांकन पत्र जांच के बाद सही पाए गए. प्रमुख उम्मीदवारों में भाजपा की ओर से विधायक मनोज टिगा, तृणमूल कांग्रेस की ओर से प्रकाश चिक बराईक और कामतापुर पीपुल्स पार्टी की ओर से नृर्पेंद्र नारायण देवकर चुनाव मैदान में हैं. शेष निर्दलीय उम्मीदवार हैं. अभी तक किसी भी उम्मीदवार ने अपना नाम वापस नहीं लिया है.

2019 के लोकसभा चुनाव में यहां से भाजपा के जॉन बारला चुनाव जीते थे. उन्हें केंद्र में अल्पसंख्यक मंत्री भी बनाया गया. लेकिन भाजपा ने इस बार जॉन बारला को टिकट नहीं दिया है और राज्य विधानसभा में भाजपा के प्रमुख सचेतक मनोज टीगा को चुनाव मैदान में उतारा है. यहां मुख्य मुकाबला भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच है. कामतापुर पीपुल्स पार्टी का भी यहां अच्छा खासा प्रभाव है. इस तरह से तीनों संसदीय सीटों के लिए कुल 59 उम्मीदवार चुनाव मैदान में रह गए हैं. उपरोक्त संसदीय सीटों के लिए विभिन्न दलों के प्रत्याशियों के द्वारा चुनाव प्रचार का कार्य तेज हो गया है.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status