April 16, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल घटना जुर्म सिलीगुड़ी

केदारनाथ राई पर हमले से सिक्किम में आया भूचाल!

केदारनाथ राई की स्थिति गंभीर बनी हुई है. आज उन्हें सिलीगुड़ी के एक निजी अस्पताल से निकाल कर दिल्ली के लिए भेज दिया गया है. जहां उनका बेहतर इलाज हो सकेगा. केदारनाथ राई के जबड़े टूटे हुए हैं. उन पर प्राण घातक हमला किया गया था. इस हमले की सिक्किम की विभिन्न राजनीतिक पार्टियों ने निंदा की है.

कल सिक्किम के नामची जिले के मल्ली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत माझी गांव में उस समय केदारनाथ राई पर हमला किया गया, जब वह एक कार्यक्रम के सिलसिले में पैदल ही जा रहे थे. केदारनाथ राई सिक्किम विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष तथा एसडीएफ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रहे हैं. एक वाहन में सवार लगभग एक दर्जन लोगों ने केदारनाथ राई पर जानलेवा हमला कर दिया.

सिक्किम में वर्तमान में यह मुद्दा गरमाया हुआ है. एसडीएफ ने केदारनाथ राई पर दिनदहाड़े हमले के लिए एसकेएम को कटघरे में खड़ा किया है. घटना की निंदा करते हुए एसडीएफ की ओर से मुख्यमंत्री तमांग के इस्तीफे की मांग की गई है. भाजपा और एसकेएम की ओर से भी हमले की निंदा की गई है. अन्य क्षेत्रीय पार्टियों ने भी इसकी घोर निंदा की है. सिक्किम में उस समय अफरा तफरी मच गई थी, जब केदारनाथ राई पर जानलेवा हमले की खबर जंगल में लगी आग की भांति चारों तरफ फैल गई.

गंभीर रूप से घायल केदारनाथ राई को रात में ही इलाज के लिए सिलीगुड़ी लाया गया और एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया. आज सुबह एसडीएफ के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री पवन चामलिंग राई को देखने के लिए सिलीगुड़ी पहुंचे. उनकी हालत चिंताजनक बनी हुई है. इस बीच सिक्किम पुलिस ने केदारनाथ राई पर हमले के दोषियों को जोर-जोर से तलाश करना शुरू कर दिया. हमले के बाद से ही चलाए गए अभियान में सिक्किम पुलिस को काफी सफलता हाथ लगी है. पुलिस ने रात भर चलाए अभियान में अब तक छह लोगों को हिरासत में लिया है. उनसे पूछताछ की जा रही है.

सिक्किम पुलिस ने जिन 6 लोगों को हिरासत में लिया है, उनके नाम लक्ष्मण राई, पवन तमांग, जितेंद्र राई, डेविड राई, सरोज थापा और करण तमांग है. इस समय पूरे देश में लोकसभा चुनाव की तैयारी चल रही है. सिक्किम में भी विभिन्न राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में जुट गए हैं. एसडीएफ ने केदारनाथ राई पर हमले के लिए मुख्यमंत्री तमांग का इस्तीफा मांगते हुए कहा है कि जब राज्य में दिनदहाड़े एक हैवीवेट नेता पर जानलेवा हमला होता है तो आम जनता की सुरक्षा क्या होगी! पार्टी ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है.

आज खबर समय ने एसडीएफ के नेता बाइचुंग भूटिया से फोन पर बात की तो उनका कहना था कि केदारनाथ राई पर हमला एक सुनियोजित साजिश के तहत हुआ है. उन्होंने सीधे-सीधे मुख्यमंत्री गोले पर आरोप लगाते हुए कहा है कि गोले का पिछला इतिहास अच्छा नहीं है. वे जेल से होकर आए हैं. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गोले भड़काऊ भाषण देते हैं. कहीं ना कहीं इस हमले में उनकी पार्टी के लोग शामिल हो सकते हैं.

केदारनाथ राई पर जानलेवा हमला कहीं ना कहीं सुनियोजित साजिश का ही हिस्सा लगता है. सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के मुख्य प्रवक्ता और मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव जेकब खालिंग राई ने हमले के बाद अपने एक बयान में कहा था कि अगर 24 घंटे के अंदर हमलावरों को नहीं पकड़ा गया तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे. और 24 घंटे के अंदर ही कथित तौर पर एक हमलावर को छोड़कर शेष सभी हमले के आरोपी पकड़ लिए गए हैं. इसका क्या संदेश जाता है, यह समझा जा सकता है.

विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष केदारनाथ राई पर हमला क्यों हुआ, किसने किया और उन पर हमले से किन को लाभ हो सकता है, हालांकि यह अभी जांच का विषय है.परंतु इसे लेकर राज्य में राजनीतिक संग्राम जोरों पर है. हर छोटी से लेकर बड़ी पार्टी इस मुद्दे को लोकसभा और विधानसभा चुनाव में भुनाना चाहती है. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हमले के बाद केदारनाथ राई को इलाज के लिए पहले मल्ली अस्पताल ले जाया गया और वहां से उन्हें सिलीगुड़ी ले जाया गया. अब दिल्ली में उनका इलाज चल रहा है.

एसडीएफ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस हमले में एसडीएफ प्रवक्ता डॉक्टर शिवकुमार शर्मा भी घायल हुए हैं. उन्होंने मल्ली थाना में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिक दर्ज कराई है. पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 341, 324, 326, 427 के तहत मामला दर्ज किया है. हमलावरों ने एसडीएफ समर्थकों के दो वाहनों में भी तोड़फोड़ की है. इन सभी के बीच मुख्यमंत्री गोले ने हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है. उन्होंने इस हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा है कि सम्मानित राजनेता और वरिष्ठ नागरिक के साथ अभद्रता नहीं होनी चाहिए. सिटीजन एक्शन पार्टी बीजेपी आदि राजनीतिक दलों ने भी इस हमले की घटना की पुरजोर निंदा की है.

(अस्वीकरण : सभी फ़ोटो सिर्फ खबर में दिए जा रहे तथ्यों को सांकेतिक रूप से दर्शाने के लिए दिए गए है । इन फोटोज का इस खबर से कोई संबंध नहीं है। सभी फोटोज इंटरनेट से लिये गए है।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status