April 19, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल राजनीति सिलीगुड़ी

चुनाव की तारीखों के ऐलान में चंद घंटे बाकी, बंगाल में 7 से 10 चरणों में हो सकते हैं चुनाव!

चुनाव आयोग चुनाव की तारीखों का ऐलान करने जा रहा है. शनिवार को दोपहर 3:00 बजे चुनाव आयोग के द्वारा तारीखों का ऐलान किया जाएगा. इस पर राजनीतिक दलों और सामान्य लोगों की नजर टिकी हुई है. इसके साथ ही पिछले कुछ दिनों से चला आ रहा सस्पेंस भी खत्म हो जाएगा.

चुनाव आयोग की लगभग 45 मिनट तक चली बैठक में चुनाव की तैयारी को लेकर समीक्षा की गई. नये चुनाव आयुक्त ज्ञानेश कुमार और सुखबीर सिंह संधू ने चुनाव आयोग के मुख्यालय में जाकर आज कार्यभार संभाल लिया. 12 मार्च से ही चुनाव की तारीखों के ऐलान का सस्पेंस बना हुआ है. लेकिन आज चुनाव आयोग ने स्पष्ट कर दिया कि शनिवार को 3:00 बजे चुनाव की तारीखों का ऐलान होगा.

पश्चिम बंगाल में लोकसभा की 42 सीटें हैं. 30 सीटें अनारक्षित है. 10 सीटें एस सी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित हैं. दो सीटें एस टी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित है. तृणमूल कांग्रेस के द्वारा सभी 42 लोकसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों का ऐलान पहले ही किया जा चुका है. भाजपा ने अभी सभी सीटों के लिए उम्मीदवार मैदान में नहीं उतारे हैं. पर समझा जाता है कि आज या कल किसी भी समय शेष उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की जा सकती है. इसी तरह से कांग्रेस और माकपा के बीच गठबंधन होता है या नहीं और अगर गठबंधन होता है तो उम्मीदवार दोनों पार्टियों के कौन-कौन होंगे, यह भी कल परसों पता चल जाएगा. इसके बाद सभी दलों की ओर से चुनाव प्रचार गर्मा जाएगा.

2019 के लोकसभा चुनाव में देश के तीन राज्यों में सात चरणों में चुनाव कराए गए थे. उनमें से पश्चिम बंगाल भी एक था. इस बार राजनीतिक विश्लेषक आशंका जता रहे हैं कि कम से कम 7- 10 चरणों में चुनाव होंगे. पिछले लोकसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने 22 लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि भाजपा को 18 सीटों पर सफलता मिली थी. कांग्रेस को महज 2 सीटों पर सफलता मिली थी.

क्या इस बार भी ऐसा ही होगा? राज्य में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच ही कड़ी टक्कर है. भाजपा ने अपने पक्ष में माहौल तैयार करने के लिए तृणमूल के कथित भ्रष्टाचार और नागरिकता संशोधन कानून जैसे मुद्दों को हवा देना शुरू किया है. दूसरी तरफ तृणमूल कांग्रेस नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रही है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी फिलहाल अस्वस्थ हैं. लेकिन स्वस्थ होने के बाद उनका चुनाव प्रचार और भाग दौड़ बढ़ जाएगी. हो सकता है कि टीएमसी की ओर से एक नई रणनीति के साथ चुनाव प्रचार को देखा जा सके.

राज्य में तृणमूल कांग्रेस के मार्ग में भाजपा ही एकमात्र बाधा है. भाजपा से निपटने के लिए तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी ने राज्य की महिलाओं पर दाव चलाया है. अगले महीने से लक्ष्मी भंडार के तहत महिलाओं को ₹1000 महीना देने की बात है. पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा का वोट प्रतिशत बढ़कर 40.6 हो गया था. जबकि टीएमसी के हिस्से में 43.7% वोट शेयर आया था. इस बार क्या होगा, सभी की नजर इस पर टिकी हुई है. क्या भारतीय जनता पार्टी अपना पिछला प्रदर्शन दोहरा पाएगी? या क्या तृणमूल कांग्रेस अपनी सीटों में इजाफा कर सकेगी? इस तरह के कई सवाल हैं, जिनके जवाब के लिए हमें कुछ समय तक इंतजार करना होगा.

फिलहाल राज्य में शांतिपूर्ण चुनाव और निष्पक्ष चुनाव के लिए केंद्रीय बलों को तैनात किया जा रहा है. पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार राज्य में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की 150 कंपनियां पहले ही तैनात की जा चुकी है . कंपनियों की अधिकतम तैनाती कोलकाता से सटे उत्तर 24 परगना जिले में की गई है. इसका मुख्य केंद्र संदेशखाली है. कोलकाता में 10 कंपनियों को तैनात किया गया है. हावड़ा, हुगली और दक्षिण 24 परगना जिलों में भी CAPF की 9 कंपनियों को तैनात किया गया है.

उत्तर बंगाल में भी कई संवेदनशील इलाके हैं. यहां केंद्रीय बलों को तैनात किया जा रहा है. कुछ इलाकों में तो केंद्रीय बल गश्त भी लगा रहे हैं. जलपाईगुड़ी, दार्जिलिंग, कूचबिहार, अलीपुरद्वार, मालदा आदि क्षेत्रों में केंद्रीय बल के जवान मार्च पास्ट कर रहे हैं. टीएमसी की ओर से इतनी जल्दी केंद्रीय बलों को तैनात किए जाने का विरोध किया जा रहा है.

राज्य में CAPF की कुल 920 कंपनियों को तैनात किए जाने की बात है. बंगाल में चुनाव में खूनी खेल पुरानी बात हो चुकी है.यहां जब भी चुनाव होते हैं, चुनाव में हिंसा, रक्तपात इत्यादि घटनाएं अन्य राज्यों से ज्यादा देखी जाती है. यही कारण है कि केंद्रीय बलों की उपस्थिति में यहां पिछले दो बार से चुनाव कराए जा रहे हैं. बस कुछ पल का इंतजार करिए, आपके सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status