April 14, 2024
Sevoke Road, Siliguri
उत्तर बंगाल जुर्म सिलीगुड़ी

सिलीगुड़ी में एक नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला!

यूं तो सिलीगुड़ी और देश के सभी छोटे-बड़े शहरों में लड़कियों से छेड़छाड़ और बदतमीजी की छोटी-बड़ी कई घटनाएं रोजाना घटती हैं. इनकी थाने में रिपोर्ट नहीं की जाती अथवा पुलिस भी ऐसे मामलों में रिपोर्ट दर्ज करने की जरूरत नहीं समझती है. लेकिन जब बात सर से ऊपर चली जाती है, तब मजबूर होकर पुलिस को मामला दर्ज करना ही होता है.

पिछले कुछ दिनों से शांत सिलीगुड़ी शहर में एक बार फिर से एक नाबालिग स्कूली छात्रा के साथ उसके ही ट्विटर के द्वारा दुष्कर्म करने की कोशिश का मामला सामने आया है. सिलीगुड़ी पुलिस ने पोक्सो एक्ट के तहत शिक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. लेकिन अभी तक आरोपी शिक्षक की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है. बताया जा रहा है कि आरोपी शिक्षक बीमार है और वह एक निजी अस्पताल में भर्ती है. पुलिस पूरे मामले की छानबीन में जुट गई है. पीड़ित परिवार, भुक्तभोगी बालिका और चश्मदीदो से पूछताछ के आधार पर घटना की पृष्ठभूमि इस प्रकार है.

सिलीगुड़ी के पांच नंबर वार्ड और जलपाई मोड़ के पास शक्तिगढ स्थित है. यहां मोहम्मद आलम नामक एक शिक्षक का घर है. मोहम्मद आलम स्कूल में बच्चों को पढ़ाने के अलावा अपने घर पर कुछ बच्चों को ट्यूशन के तौर पर पढ़ाते भी हैं. उनके घर पर ट्यूशन पढ़ने के लिए माटीगाड़ा की एक बालिका प्रीति (बदला हुआ नाम) आती थी. मोहम्मद आलम प्रीति को सुबह में ट्यूशन पढ़ाता था.

3 फरवरी 2024. उस दिन मोहम्मद आलम तैयार होकर अपने ट्यूशन कक्ष में बैठे प्रीति का इंतजार कर रहे थे. लेकिन काफी देर हो गयी. प्रीति नहीं आई. मोहम्मद आलम को थोड़ी बेचैनी होने लगी तो उसने प्रीति को फोन लगाया. लेकिन प्रीति ने उसके फोन का कोई जवाब नहीं दिया. एक बार, दो बार, तीन बार… हर बार बेल जाती रही. लेकिन प्रीति ने अपने शिक्षक का फोन नहीं उठाया. उसके बाद मोहम्मद आलम ने झुंझलाते हुए प्रीति की मां को फोन किया. लेकिन उन्होंने भी उसका फोन रिसीव नहीं किया.

मोहम्मद आलम के पास प्रीति की एक चाची का भी नंबर था. उसने प्रीति की चाची के मोबाइल पर फोन किया तो उसकी चाची ने फोन उठाया. मोहम्मद आलम ने पूछा कि प्रीति की तबीयत ठीक तो है? वह आज ट्यूशन क्यों नहीं आई? इसके बाद मोहम्मद आलम ने प्रीति की चाची से कहा कि वह प्रीति को दोपहर उसके घर ट्यूशन पढ़ने के लिए भेज दें. एक इंर्पोटेंट नोट तैयार करना है. प्रीति के करियर के लिए यह जरूरी है. यह मिस नहीं किया जाना चाहिए.

प्रीति की चाची ने प्रीति से ट्यूशन नहीं जाने का कारण पूछा. लेकिन प्रीति ने तबीयत खराब रहने का बहाना करके टाल दिया. हालांकि वह दोपहर को ट्यूशन जाने के लिए तैयार हो गयी. वह दोपहर में मोहम्मद आलम के घर पर ट्यूशन पढ़ने गई. मोहम्मद आलम बड़ी बेसब्री से उसकी प्रतीक्षा कर रहा था. उसने प्रीति से पूछा कि उसने उसके फोन का जवाब क्यों नहीं दिया. प्रीति ने इसका कोई उत्तर नहीं दिया. अचानक ही मोहम्मद आलम प्रीति को बिल्डिंग के तीसरे फ्लोर पर ले गया और उसे कमरे में धकेल कर अंदर से कमरे का दरवाजा बंद कर दिया.

प्रीति समझ गई कि मोहम्मद आलम उससे क्या चाहता था. उसने शोर मचाना शुरू कर दिया. इस पर मोहम्मद आलम ने प्रीति के साथ मारपीट की और उसके बदन से छेड़छाड़ करना शुरू कर दिया. प्रीति ने इसका पुरजोर विरोध किया. प्रीति के अनुसार मोहम्मद आलम उसके साथ दुष्कर्म करना चाहता था. जब वह उसका पीछा करने लगा तो वह घबरा गई और पीछे से मोहम्मद आलम को धक्का मार कर किसी तरह से अपनी जान छुड़ाकर वहां से भागी. घर लौट कर प्रीति ने यह बात अपनी बड़ी बहन को बता दी और फूट-फूटकर रोने लगी.

प्रीति की दीदी ने प्रीति के साथ हुए हादसे के बारे में घर वालों को बताया तो घरवाले उत्तेजित हो उठे. उसी रात को प्रीति के घर वाले मोहम्मद आलम के घर पहुंच गए और उसके घर के सामने खड़े होकर हंगामा करने लगे. प्रीति के घर वालों ने कहा कि मोहम्मद आलम ने उनकी बेटी के साथ दुराचार किया है. इसलिए हम उसे छोड़ेंगे नहीं. इस पूरे हंगामे के बीच मोहम्मद आलम तो उनके बीच नहीं आया लेकिन मोहम्मद आलम के परिवार और उसके दोस्तों ने प्रीति के घर वालों को अपमानित करके भगा दिया. प्रीति के घर वालों ने पुलिस और कोर्ट कचहरी की धमकी दी और घर लौट आए.

प्रीति के घर वालों ने पड़ोसियों को भी यह बात बता दी. इसके बाद यही फैसला किया गया कि मामले को पुलिस के सामने ले जाया जाए. यह विचार करके प्रीति और उसके घर वाले तथा पड़ोसी सोमवार की रात 11:00 बजे सिलीगुड़ी पुलिस स्टेशन पहुंचे और ड्यूटी पर उपस्थित पुलिस अधिकारी को मामले की जानकारी दी. फिर पुलिस अधिकारी की सलाह पर प्रीति ने एक प्रार्थना पत्र तैयार किया, जिसमें उसके साथ घटना का जिक्र था. प्रारंभिक छानबीन के बाद पुलिस ने पोक्सो एक्ट के तहत आरोपी शिक्षक मोहम्मद आलम के खिलाफ मामला पंजीकृत कर लिया है.

खबर समय ने घटना के आरोपी शिक्षक मोहम्मद आलम का पक्ष रखने के लिए उससे संपर्क करने की कोशिश की. लेकिन मोहम्मद आलम से संपर्क नहीं हो सका है. बताया जा रहा है कि मोहम्मद आलम एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती है. पुलिस अभी तक उसे गिरफ्तार नहीं कर सकी है. इस बीच पुलिस छानबीन तेज कर चुकी है. देखना होगा कि आरोपी शिक्षक मोहम्मद आलम को पुलिस गिरफ्तार करती है या नहीं और यह भी कि कब तक गिरफ्तार करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status